नई दिल्ली। केंद्र की मोदी सरकार शुरू से ही काम के साथ खेल को भी प्रमोट करने में लगी और अपने फिट इंडिया मूवमेंट के तहत नए-नए आयोजन करती रहती है। इसी तर्ज पर अब और कुछ नया करने की तैयारी है जो रोजाना सारा दिन दफ्तरों में काम करने वाले लोगों के लिए अच्छा साबित होगा। काम इतना करो कि हमेशा व्यस्त रहो, व्यायाम इतना करो कि हमेशा स्वस्थ रहो। इसी लक्ष्य के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फिट इंडिया मूवमेंट को आयुष मंत्रालय ने एक नए स्तर पर ले जाने का फैसला किया है।

इसी के चलते सरकारी संस्थानों और कॉर्पोरेट जगत में जल्द ही पांच मिनट का वाई ब्रेक या योगा-ब्रेक अनिवार्य हो जाएगा। इन योगासनों से कर्मचारियों का ध्यान दुरुस्त होगा और उत्पादकता भी बढ़ेगी। इस दौरान काम के घंटों में से सिर्फ पांच मिनट की छुट्टी लेकर कुछ हल्की-फुल्की एक्सरसाइज करनी होगी। कार्यस्थल पर कर्मियों को तनावमुक्त और तरोताजा करने में मदद के लिए हल्के-फुल्के योगासन कारगर होने वाले हैं। ताकि विशेष रूप से डेस्क वर्क करने वाले कर्मचारी और अधिकारी घंटों एक ही अवस्था में बैठे रहकर रोगग्रस्त न हो जाएं।

पिछले सोमवार को आयुष मंत्रालय ने पांच मिनट के वाई ब्रेक का ट्रायल कराया। यह वाई ब्रेक मोरारजी देसाई नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ योगा के जरिए मंत्रालय ने विकसित कराया है। मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि कुछ कॉर्पोरेट हाउस जैसे टाटा कैमिकल्स, एक्सिस बैंक और अर्नेस्ट एंड यंग ग्लोबल कंसल्टिंग सर्विसेज समेत करीब 15 संस्थानों ने इस ट्रायल में स्वैच्छिक रूप से हिस्सा लिया है। आयुष मंत्रालय ने इससे पहले सरकारी संस्थानों और अन्य कॉर्पोरेट कंपनियों से अपने कर्मचारियों के लिए अनिवार्य रूप से 30 मिनट का ब्रेक करने की अपील की थी।

Posted By: Ajay Barve

fantasy cricket
fantasy cricket