नई दिल्‍ली। Nirbhaya case : निर्भया केस में फांसी की सजा से बचने के लिए चारों दोषी लगातार नित नई जुगत भिड़ा रहे हैं। आज शाम इस क्रम में एक और उदाहरण जुड़ गया जब दोषी विनय शर्मा ने राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद को दया याचिका भेज दी। विनय से पहले एक अन्‍य दोषी मुकेश ने भी दया याचिका भेजी थी जो कि खारिज हो चुकी है। जैसे-जैसे फांसी का समय नजदीक आता जा रहा है, मामले के दोषी रोज नए हथकंडे आजमाने से बाज नहीं आ रहे हैं। इसी तरह एक और दोषी अक्षय सिंह ने भी सुप्रीम कोर्ट में क्‍यूरेटिव पिटीशन दायर की थी जिसे कोर्ट ने सुनवाई के लिए माना है। इस पिटीशन पर गुरुवार को पांच जजों की बेंच सुनवाई करेगी।

1 फरवरी को फांसी की तारीख तय लेकिन आ रही ये अड़चन

गौरतलब है कि जबसे अदालत ने चारों आरोपियों को फांसी की सजा सुनाई है, तभी से चारों दोषी फांसी से बचने के लिए हथकंडे अपना रहे हैं। दूसरी तरफ, जेल प्रशासन के सामने भी इनको दंड देना चुनौती बना हुआ है। कानून के जानकार बताते हैं कि वैसे तो फांसी के लिए 1 फरवरी की तारीख तय है लेकिन उस दिन फांसी होना मुश्किल लगता है क्‍योंकि नियम के अनुसार दोषी को फांसी से 14 दिन पहले सूचित करना जरूरी होता है।

पटियाला कोर्ट ने तय की थी तारीख

पिछले दिनों दिल्‍ली पटियाला कोर्ट ने इस मामले में फैसला देते हुए चारों दोषियों अक्षय सिंह, विनय शर्मा, मुकेश सिंह और पवन गुप्‍ता को 1 फरवरी की सुबह 7 बजे फांसी पर लटकाए जाने का आदेश दिया था। फांसी का समय पास आता देखकर अब इनमें से एक आरोपी विनय शर्मा ने राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद को दया याचिका भेजी है। अब अंतिम फैसला राष्‍ट्रपति करेंगे।

Posted By: Navodit Saktawat

fantasy cricket
fantasy cricket