Pariksha pe Charcha के दौरान प्रधानमंत्री नरेंंद्र मोदी ने छात्रों से बात की। इस दौरान पीएम ने कहानियों और किस्सों के साथ ही प्रेरक बातों के जरिए बच्चों की समस्याओं का सामधान निकालने की कोशिश की। बच्चों ने भी पीएम को सहज भाव से सवाल पूछे। कई सवाल तो ऐसे थे, जो बच्चे अपने माता-पिता या घर के किसी बड़े से भी पूछ सकते थे, लेकिन उन्होंने प्रधानमंत्री से पूछा। पीएम ने सभी सवालों के जवाब बड़े दिलचस्प अंदाज में दिए। पूरे कार्यक्रम के दौरान कई ऐसी बातें निकलीं, जिन्हें गांठ बांध लिया जाए, तो कोई परीक्षा बड़ी नहीं लगती। पढ़िए पीएम की कही ऐसी ही बातें -

- Co-curricular activities न करना आपको रोबोट की तरह बना सकता है। आप इसे बदल सकते हैं। हां, इसके लिए बेहतर समय प्रबंधन की आवश्यकता होगी। आज कई अवसर हैं और मुझे आशा है कि युवा इनका उपयोग करेंगे।

- जैसे स्टील के स्प्रिंग को ज्यादा खींचने पर वो तार बन जाता है, उसी तरह मां-बाप, अध्यापकों को भी सोचना चाहिए कि बच्चे कि क्षमता कितनी है।

- किसी चीज में आप विफल हो गए तो उसका मतलब है कि अब आप सफलता की ओर चल पड़े हैं।

- अधिकार और कर्त्तव्य जब साथ साथ बोले जाते हैं, तभी सब गड़बड़ हो जाता हैं। जबकि हमारे कर्त्तव्य में ही सबके अधिकार समाहित हैं। जब मैं एक अध्यापक के रूप में अपना कर्त्तव्य निभाता हूं, तो उससे विद्यार्थियों के अधिकारों की रक्षा होती है।

- सिर्फ परीक्षा के अंक जिंदगी नहीं हैं। कोई एक परीक्षा पूरी जिंदगी नहीं है। ये एक महत्वपूर्ण पड़ाव है। लेकिन यही सब कुछ है, ऐसा नहीं मानना चाहिए।

- तकनीक हमें खींचकर ले जाए, उससे हमें बचकर रहना चाहिए। हमारे अंदर ये भावना होनी चाहिए कि मैं तकनीक को अपनी मर्जी से उपयोग करूंगा।

- जाने अनजाने में हम लोग उस दिशा में चल पड़े हैं जिसमें सफलता -विफलता का मुख्य बिंदु कुछ विशेष परीक्षाओं के मार्क्स बन गए हैं। उसके कारण मन भी उस बात पर रहता है कि बाकी सब बाद में करूंगा, एक बार मार्क्स ले आऊं।

- हम विफलताओं मैं भी सफलता की शिक्षा पा सकते हैं। हर प्रयास में हम उत्साह भर सकते हैं और किसी चीज में आप विफल हो गए तो उसका मतलब है कि अब आप सफलता की ओर चल पड़े हो।

- क्या कभी हमने सोचा है कि Mood off क्यों होता है? अपने कारण से या बाहर के किसी कारण से। अधिकतर आपने देखा होगा कि जब Mood off होता है, तो उसका कारण ज्यादातर बाह्य होते हैं।

- हमने डर के कारण आगे पैर नहीं रखे, इससे बुरी कोई अवस्था नहीं हो सकती। हमारी मनोस्थिति ऐसी होनी चाहिए कि हम किसी भी हालत में डगर आगे बढ़ाने का प्रयास करेंगे, ये मिजाज तो हर विद्यार्थी का होना चाहिए।

परीक्षा पे चर्चा विशेष ( संबंधित खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें)

सिर्फ परीक्षा के अंक जिंदगी नहीं, कोई एक परीक्षा पूरी जिंदगी नहीं, पढ़िए बड़ी बातें

Pariksha Pe Charcha के दौरान पीएम मोदी ने खोला राज, लोगों ने मना किया था, फिर भी इसलिए गए थे चंद्रयान-2 की लॉचिंग देखने

Pariksha Pe Charcha 2020: PM मोदी के जिक्र करते ही ट्रेंड करने लगा #withoutfilter, जानिए क्या पोस्ट कर रहे लोग

Pariksha Pe Charcha: पीएम मोदी बोले, स्मार्टफोन चोरी न कर लें आपका पूरा समय, करें ये दो काम

Posted By: Arvind Dubey