नई दिल्ली। झारखंड की एक चुनावी सभा में कांग्रेस नेता राहुल गांधी के दिए विवादित बयान पर शुक्रवार को लोकसभा में भाजपा सदस्यों ने जमकर हंगामा किया। उनसे माफी मांगने की मांग की। केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह ने तो यहां तक कहा कि राहुल जैसे नेताओं को संसद में होने का कोई 'नैतिक अधिकार" नहीं है।

भाजपा की महिला सदस्यों ने वेल के नजदीक इकट्ठा होकर राहुल के खिलाफ जोरदार हमला बोला। इस कारण स्पीकर ओम बिरला को सदन की कार्यवाही दो बार स्थगित करना पड़ी। शुक्रवार शीत सत्र का अंतिम दिन था।

क्या कहा था राहुल ने

मालूम हो कि राहुल गांधी ने देश में हालिया दुष्कर्म की घटनाओं को लेकर सरकार को निशाने पर लेते हुए झारखंड की चुनावी रैली में गुरुवार को कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वादा तो 'मेक इन इंडिया" का किया था लेकिन आप देश के विभिन्न् हिस्सों में देखेंगे तो 'रेप इन इंडिया" पाएंगे।

द्रमुक की कनिमोझी ने किया राहुल का बचाव

भाजपा सदस्यों के हंगामे के बीच द्रमुक की कनिमोझी ने राहुल गांधी का बचाव किया। कांग्रेसियों के सुर में सुर मिलाते हुए स्पीकर से प्रश्नकाल चलाने की अपील की। कनिमोझी ने कहा कि राहुल गांधी ने उक्त बयान सदन में नहीं दिया है और वह देश भर में महिलाओं पर होने वाले यौन हमले तथा हिंसा की वारदातों का हवाला दे रहे थे।

इसके पहले संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कनिमोझी तथा राकांपा नेता सुप्रिया सुले से राहुल गांधी की टिप्पणियों पर विचार व्यक्त करने को कहा था। उसके बाद कनिमोझी की आई प्रतिक्रिया को जोशी ने 'दुर्भाग्यपूर्ण" करार दिया।

जमकर बरसीं स्मृति ईरानी

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस नेता की कटु आलोचना करते हुए कहा कि उन्होंने देश की महिलाओं और पुरुषों का अपमान किया है। उन्होंने दावा कि राहुल की टिप्पणी एक तरह से महिलाओं से दुष्कर्म का आमंत्रण है। उन्होंने कांग्रेस नेता से माफी मांगने की मांग करते हुए कहा कि उन्हें दंडित किया जाना चाहिए।

राहुल ने पूरे देश को आहत किया : सिंह

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी मामले में हस्तक्षेप करते हुए राहुल गांधी पर हमला बोला और कहा कि ऐसे नेताओं को सदन में होने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है। उन्होंने कहा कि गांधी ने न सिर्फ सदन बल्कि पूरे देश को आहत किया है। सिंह ने कहा कि मोदी सरकार ने देश को आयातक से निर्यातक बनाने के लिए 'मेक इन इंडिया" कार्यक्रम शुरू किया था। उसका उद्देश्य देश के युवाओं को रोजगार उपलब्ध करना है लेकिन लोग अब उसकी ऐसी तुकबंदी मिलाने लगे हैं, जो बोला भी नहीं जा सकता है।

सबका किया अपमान : लॉकेट चटर्जी

वहीं, भाजपा सांसद लॉकेट चटर्जी ने कहा कि गांधी ने न सिर्फ इस देश की महिलाओं का बल्कि हर किसी का अपमान किया है। हर पुरुष दुष्कर्मी नहीं है। सुबह में करीब आधे घंटे तक हंगामा जारी रहने पर स्पीकर ने कार्यवाही 12 बजे तक स्थगित कर दी। इस कारण प्रश्नकाल नहीं हो सका। भोपाल से सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर समेत भाजपा के 30 से ज्यादा सदस्य गलियारे में खड़े होकर नारेबाजी करते रहे। इसके जवाब में कांग्रेसी सदस्य भी वहां आ गए।

राहुल को कोई समझ नहीं, कांग्रेस मांगे माफी : जोशी

संसदीय कार्य मंत्री ने दोनों सदनों की कार्यवाही स्थगित होने के बाद मीडिया से कहा कि राहुल गांधी को तो कोई समझ नहीं है, इसलिए उनकी टिप्पणी के लिए कांग्रेस को माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने कहा कि न तो राहुल गांधी और न ही उनकी पार्टी या उनके ग्रुप नेता ने खेद जताया है बल्कि उनकी टिप्पणी का बचाव ही किया है। यह निंदनीय है। वह आखिर अंतरराष्ट्रीय समुदाय को क्या संदेश देना चाहते हैं?

क्या राहुल को पीड़ा का एहसास है : एनसीडब्ल्यू

राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने भी राहुल गांधी आलोचना करते हुए ट्वीट किया- 'राहुल गांधी 'रेप इन इंडिया" कह कर क्या संदेश देना चाहते हैं? दुष्कर्म शब्द का इस्तेमाल कितना आसान हो गया है? क्या उन्हें एहसास है कि यह महिलाओं के लिए कितना पीड़ादायक है? दुष्कर्म की सर्वाधिक घटनाओं वाले राज्यों में दो कांग्रेस शासित हैं, जहां महिला आयोग नहीं है। इसके बारे में क्या कहेंगे?"

माफी मांगने का सवाल ही नहीं : राहुल गांधी

दूसरी ओर, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनी टिप्पणी के लिए माफी मांगने से साफ इनकार करते हुए सरकार को फिर से निशाने पर लिया। संसद परिसर में पत्रकारों से बात करते हुए राहुल ने कहा- 'मैंने जो कहा, वह इसलिए कि प्रधानमंत्री 'मेक इन इंडिया" की बात करते रहते हैं लेकिन जब हम अखबार खोलते हैं तो पूरे देश भर से दुष्कर्म की खबरें पढ़ने को मिलती हैं। भाजपा शासित हर राज्य से दुष्कर्म की रिपोर्टें होती हैं।" 'रेप इन इंडिया" वाले अपने बयान पर माफी मांगने की मांग पर राहुल ने दो टूक कहा- 'माफी मांगने का सवाल ही नहीं है। यह तो मुख्य मुद्दा नागरिकता कानून से ध्यान भटकाने का महज एक बहाना है। इसके सिवाय कुछ भी नहीं।" उन्होंने कहा कि आज मुख्य मुद्दा यह है कि मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने पूरे पूर्वोत्तर राज्यों को आग में झोंक दिया है और अब उससे ध्यान हटाने के लिए भाजपा यह मुद्दा उठा रही है। उन्होंने कहा- 'मैंने जो कहा है, वह बार-बार कहूंगा। नरेंद्र मोदी ने मेक इन इंडिया की बात कही और हम सोचते थे कि अखबारों में उसके बारे में पढ़ने को मिलेगा लेकिन आज जब हम अखबार खोलते हैं तो देश में हर जगह से दुष्कर्म की खबरें होती हैं।"

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020