नई शिक्षा नीति पर सरकार किस तेजी से बढ़ना चाहती है इसका अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देशभर के विश्वविद्यालयों के कुलपतियों, उच्च शिक्षण संस्थानों के निदेशकों और कालेजों के प्राचार्यों को संबोधित कर रहे हैं। अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने नई शिक्षा नीति के तैयार करने के पीछे की मेहनत के अलावा इसके उद्देश्यों की जानकारी भी दी।

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि, पीएम मोदी ने कहा कि सालों के गहरे रिसर्च और कंसल्टेशन के बाद नई शिक्षा नीति तैयार की गई है। इस पर पूरे देश में चर्चा हो रही है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति आने के बाद देश के किसी भी क्षेत्र से, किसी भी वर्ग से ये बात नहीं उठी कि इसमें किसी तरह का Bias है, या किसी एक ओर झुकी हुई है। हर देश अपनी शिक्षा व्यवस्था को अपनी National Values के साथ जोड़ते हुए, अपने National Goals के अनुसार Reform करते हुए चलता है। मकसद ये होता है कि देश का Education System, अपनी वर्तमान औऱ आने वाली पीढ़ियों को Future Ready रखें, Future Ready करें।

मोदी ने कहा कि यह नई शिक्षा नीति नए भारत की 21वीं सदी की नींव रखने वाली होगी। बीते अनेक वर्षों से हमारे शिक्षा व्यवस्था में बड़े बदलाव नहीं हुए थे। परिणाम ये हुआ कि हमारे समाज में Curiosity और Imagination की Values को प्रमोट करने के बजाय भेड़ चाल को प्रोत्साहन मिलने लगा था।

पीएम मोदी ने गुरुदेव रबींद्रनाथ टैगोर को याद करते हुए कहा कि, आज उनकी पुण्यतिथि भी है। वो कहते थे - "उच्चतम शिक्षा वो है जो हमें सिर्फ जानकारी ही नहीं देती, बल्कि हमारे जीवन को समस्त अस्तित्व के साथ सद्भाव में लाती है।" निश्चित तौर पर राष्ट्रीय शिक्षा नीति का बृहद लक्ष्य इसी से जुड़ा है। हमारे छात्रों में, हमारे युवाओं में क्रिटिकल थिंकिंग और इनोवेटिव थिंकिंग विकसित कैसे हो सकती है, जब तक हमारी शिक्षा में पैशन न हो, philosophy of education, purpose of education न हो। इसके हिसाब से भारत का एजुकेशन सिस्टम खुद में बदलाव करे, ये भी किया जाना बहुत जरूरी था। स्कूल के 10+2 स्ट्रक्चर से आगे बढ़कर अब 5+3+3+4 का स्ट्रक्चर देना, इसी दिशा में एक कदम है

इस मौके पर प्रधानमंत्री के साथ शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, शिक्षा राज्य मंत्री संजय धोत्रे और नीति को तैयार वाली कमेटी के अध्यक्ष के कस्तूरीरंगन भी शामिल हुए।

सम्मेलन में उच्च शिक्षा से जुड़े विषयों पर अलग-अलग कई सत्र भी रखे गए हैं जिसमें उच्च शिक्षा में किए गए बदलावों के प्रस्तावों पर विस्तार से चर्चा होगी। बता दें कि दैनिक जागरण ने पहले ही इसकी जानकारी दी थी। बताया जाता है कि इसके बाद शिक्षा मंत्री राज्यों के शिक्षामंत्रियों व भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ भी चर्चा करेंगे और वक्त पर शिक्षा नीति के क्रियान्वयन के लिए आग्रह करेंगे।

Posted By: Ajay Kumar Barve

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020