केंद्र सरकार कोरोना लॉकडाउन के मद्देनजर गरीबों की मुश्किलों को कम करने में जुटी हुई हैं। इसी के मद्देनजर कई योजनाएं लागू की गई हैं। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (PMGKY) के अंतर्गत प्रधानमंत्री उज्जवला योजना (PMUY) में गरीबों को तीन महीनों तक फ्री LPG Cylinder बांटे जा रहे हैं। उज्जवला योजना के तहत रजिस्टर्ड लोग ही इसका लाभ उठा सकते हैं। अप्रैल से शुरू हुई इस स्कीम का अब मात्र एक महीना बचा है। इस योजना में अब तक 6.8 करोड़ फ्री LPG Cylinder बांटे जा चुके हैं।

इस योजना के तहत एक 14.2 किलोग्राम वाले 3 एलपीजी सिलेंडर दिए जाने का प्रावधान है। एक महीने में एक ही मुफ्त सिलेंडर प्रदान किया जा रहा है। इस स्कीम के तहत जिसके पास 5 किलो वाले सिलेंडर हैं, उन्हें तीन महीने में कुल 8 सिलेंडर मिलेंगे। मोदी सरकार ने 1.7 लाख करोड़ के पहले राहत पैकेज में इस स्कीम की घोषणा की थी। सरकार ने इसके लिए देश के 1000 एलपीजी वितरकों के साथ बैठक कर यह सुनिश्चित किया था कि गरीबों तक 3 मुफ्त LPG Cylinder समय पर पहुंच जाएं। लॉकडाउन के दौरान भी गैस सिलेंडरों की डिलिवरी को पूरी छूट दी गई थी।

पेट्रोलियम मंत्रालय के अनुसार अप्रैल महीने में 4.5 करोड़ फ्री LPG Cylinder प्रदान किए गए थे। इस स्कीम में 20 मई तक कुल 6.8 करोड़ एलपीजी गैस सिलेंडर दिए जा चुके हैं। सरकार ने तीन महीनों में कुल 24 करोड़ सिलेंडर प्रदान करने का लक्ष्य रखा था लेकिन इस गति से तो 14 करोड़ से अधिक सिलेंडर नहीं दिए जा सकेंगे।

लाभार्थियों के खाते में प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण (डीबीटी) के माध्यम से अग्रिम तौर पर धनराशि दे दी गई थी ताकि उन्हें इस सुविधा में कोई परेशानी नहीं हो। सप्लाई चेन के एक अधिकारी ने कहा कि लोगों को समय पर सिलेंडर की आपूर्ति ही नहीं की जा रही है बल्कि उन्हें साफ-सफाई और स्वास्थ्य से जुड़े दिशानिर्देशों के बारे में भी जागरूक किया जा रहा है।

Posted By: Kiran K Waikar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना