नई दिल्‍ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के घर पर सुरक्षा में सेंध का मामला सामने आया है। एसपीजी सुरक्षा हटने के बाद इस तरह का यह पहला मामला है। एक सप्ताह पहले बिना किसी तयशुदा कार्यक्रम के सेल्‍फी लेने के लिए अज्ञात व्यक्तियों ने उनके आवास में प्रवेश किया था। 26 नंवबर को करीब 2 बजे उनके घर में एक अनजान गाड़ी घुस गई थी, जिसमें कई लोग सवार थे।

जानकारी के अनुसार, प्रियंका गांधी के आवास के अंदर तीन महिला और तीन पुरुष एक बच्चे के साथ घुस गए थे। जबरन घुसपैठ करने वाले लोगों का कहना था कि हम उनके प्रशंसक हैं, उनसे मिलने के लिए आए हैं। सीआरपीएफ ने इस मामले में शिकायत दर्ज की है। वहीं मामले की जांच की जा रही है। गौरतलब है कि पिछले दि‍नों गांधी परिवार से एसपीजी का सुरक्षा कवच हटा लिया गया था। अब सीआरपीएफ उनकी सुरक्षा की जिम्‍मेदारी संभाल रही है।

प्रियंका गांधी के दफ्तर ने आईजी सीआरपीएफ को लिखी एक चिट्ठी में सुरक्षा में चूक होने की बात कही है। इसमें CRPF की ओर से दलील दी गई कि घर में प्रवेश का जिम्मा दिल्ली पुलिस का है। वहीं, इस मामले में दिल्ली पुलिस का कहना है कि उनको किसी ने गेट खोलने का ग्रीन सिग्नल दिया था, उसके बाद ही उन्होंने दरवाजा खोला था।

इस संबंध में केंद्रीय गृह राज्‍य मंत्री जी किशन रेड्डी ने कहा कि मुझे अभी तक इस मामले में जानकारी नहीं है। मैं लोकसभा से आ रहा हूं। मैं जाऊंगा और अपने अधिकारियों के साथ चर्चा करूंगा।

सुरक्षा है चाकचौबंद

केंद्र सरकार ने भले ही कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के एसपीजी सुरक्षा कवच को वापस ले लिया हो, लेकिन उनकी सुरक्षा में कोई कमी नहीं की गई है। उनकी सुरक्षा में न सिर्फ पहले से एसपीजी द्वारा उपयोग किये जा रहे वाहनों और उपकरणों का उपयोग किया जा रहा है, बल्कि सीआरपीएफ के उन जवानों को तैनात भी किया गया है, जो पहले एसपीजी में अपनी सेवाएं दे चुके हैं। केंद्र सरकार ने भविष्य में किसी भी पूर्व पीएम के परिवार को ऐसी सुरक्षा नहीं मुहैया कराने के लिए एसपीजी में कानून में संशोधन का विधेयक का लोकसभा में पेश किया है।

Posted By: Yogendra Sharma