Punjab Budget 2020 Update: वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल ने शुक्रवार को Punjab का बजट पेश किया। वित्त मंत्री ने किसानों, युवाओं और कर्मचारियों के लिए बड़े ऐलान किए। कर्मचारियों के लिए रिटायरमेंट की उम्र अब 60 साल से घटाकर 58 साल कर दी गई है। किसानों को फ्री बिजली दी जाएगी। कर्ज माफी भी मिलेगी। 2 लाख युवाों को नौकरी देने का ऐलान भी बजट भाषण में किया गया है। वर्ष 2020-21 के लिए पंजाब का कुल बजट 1,54,805 करोड़ रुपए रखा गया है। इससे पहले वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल के बंगले के बाहर भारी हंगामा हुआ। अकाली दल के सदस्यों ने प्रदर्शन किया। इस दौरान भारी धक्कामुक्की की स्थिति बनी।

Punjab Budget Highlights

Punjab Budget: नए मेडिकल कॉलेजों की घोषणा

स्वस्थ पंजाब स्वास्थ्य केंद्र का लक्ष्य 2022 तक सभी 2950 उप केंद्रों को अपग्रेड करना है। इसी प्रकार, कपूरथला और होशियारपुर में नए मेडिकल कॉलेजों की स्थापना। पटियाला में जगत गुरु नानक देव पंजाब स्टेट ओपन विश्वद्यालय और तरनतारन में श्री गुरु तेग बहादुर स्टेट ला विश्विद्यालय स्थापित किया जाएगा। इसी तरह मोहाली में बन रहे मेडिकल कालेज के लिए 157 करोड़, होशियारपुर मेडिकल कालेज के लिए 10 करोड़ रखा गया।

Punjab Budget: लुधियाना और अमृतसर की एयर क्वालिटी सुधारने के लिए 180 करोड़

स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के लिए 532 करोड़ का काम चल रहा है। इसाल 810 करोड़ रुपये बजट रखा गया है। लुधियाना और अमृतसर में एयर क्वालटी को सुधारने के लिए 104 और 76 करोड़ रुपये रखे गए। बुड्ड नाला के ले लिए 650 करोड़ रुपये रखा गया।

Punjab Budget: पहली बार बिजली बोर्ड मुनाफे में

बिजली बोर्ड ने पिछले साल साल 80 करोड़ का मुनाफा कमाया। वित्त मंत्री ने दावा किया कि ऐसा पहली बार हुआ है कि pspcl पहली बार मुनाफे में आया है।

Punjab Budget: 12वीं तक शिक्षा मुफ्त

पंजाब सरकार ने 12वी तक के सभी छात्रों को मुफ्त शिक्षा देने की घोषण की । अभी तक 8वी क्लास तक ये सुविधा थी। छात्राओं को 12 तक मुफ्त शिक्षा दी जाती थी

पटियाला में जगत गुरु नानक देव पंजाब स्टेट ओपन विश्वद्यालय और तरनतारन में श्री गुरु तेग बहादुर स्टेट ला विश्विद्यालय स्थापित किया जाएगा।

तीन मेगा औद्योगिक पार्क विकसित किए जाएंगे। कपड़ा उद्योग के लिए लुधियाना के मत्तेवाल में, बठिंडा में ग्रीन इंड्रस्टी के लिए, दवा उद्योग के लिए फतेहगढ़ साहिब के वजीराबाद में 1000 एकड़ में बनाए जाएंगे औद्योगिक पार्क।

इंड्रस्टी को बिजली सब्सिडी के लिए 2267 करोड़ रुपये रखा गया है। उद्योग में बिजली की खपत 16.92 फीसदी बढ़ी। आशीर्वाद स्किम के लिए 65 करोड़ रुपये रखा गया।

वर्ष 2020-21 में 800 से अधिक प्लेसमेंट कैंप लगाने और 1,50,000 युवाओं को रोजगार देने और 69,600 बेरोजगार युवाओं की काउंसलिंग में सहायता प्रदान की जाएगी।

उद्योग के लिए सब्सिडी वाली बिजली प्रदान करने के लिए 2,267 करोड़ रुपए खर्च होंगे। 2 हजार 276 सड़कों की कनेक्टिविटी, पीने के पानी के लिए 229 करोड़। यह 11 करोड़ रुपए की लागत से होशियारपुर में एक सेना बल तैयारी संस्थान स्थापित करने का प्रस्ताव है।

Punjab Budget : किस मद में कितना आवंटन

  • कृषि के लिए 12526 करोड़
  • एजुकेशन के लिए 13092 करोड़
  • हेल्थ के लिए 4675 करोड़ करोड़
  • सामाजिक न्याय के लिए 901 करोड़
  • ग्रामीण व शहरी के बुनियादी ढांचा के लिए 3830 करोड़
  • सड़को के लिए 2276 करोड़
  • जल आपूर्ति व स्वच्छता के लिए 2029 करोड़

Punjab Budget : बच्चों को स्कूल लाने-ले जाने के फ्री सेवा

प्राथमिक स्कूलों में बच्चों को लाने ले जाने के लिए पंजाब सरकार मुफ्त परिवहन की व्यवस्था करेगी। इसके लिए बजट में 10 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है।

259 सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्मार्ट स्कूल में 10 किलोवाट के सोलर प्लांट लगाए जाएंगे। इस बार कर्मचारियों की सैलरी का बजट 8.68 और पेंशन का 2.11 फीसदी बढ़ा। पंजाब का कुल कर्ज 248236 करोड़ रुपए है।

Punjab Budget में किसानों पर मेहरबान सरकार

मंडी फीस 4 से घटा कर 1 फीसदी करने का प्रस्ताव। फूड खरीद से किसानों की आमदनी 44000 करोड़ रुपए बढ़ी। किसानों की आमदनी में 35 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। इस बार किसानों को 8275 करोड़ की फ्री बिजली दी जाएगी।

खेल के लिए 270 करोड़ रखे है। पंजाब का बजट 154805 के करोड़ रुपए का है। पुलिस के आधुनिकीकरण के लिए 132 करोड़ रखे गए हैं। होशियारपुर जेल में अस्पताल बनाए जाने को मंजूरी दी गई है। 5 जेलों में नशा मुक्ति केंद्र खोले जाएंगे। जेलों में जैमर, बॉडी स्कैनर सीसीटीवी लगाने के लिए 25 करोड़ रुपये रखे गए हैं।

Punjab Budget में स्कूलों के लिए प्रावधान

स्कूली शिक्षा का बजट 12488 करोड़ रखा गया। जोकि 2016-17 के मुकाबले 23 फीसदी ज्यादा है। स्कूलों में असुरक्षा के दायर में आए 4150 क्लास रूम को बनाने के लिए 100 करोड़ रुपये रखे गए। राज्य के 4325 स्कूलों के रखरखाव के लिए 75 करोड़ रुपये रखे गए।

पंजाब सरकार बनाएगी नौकरी के अवसर, किसान ऋण माफी के लिए 520 करोड़ रुपए आवंटित, कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति की आयु 60 वर्ष से घटाकर 58 वर्ष कर दी गई है। बाजार शुल्क को 4 से घटाकर 1 प्रतिशत करने का प्रस्ताव। आवारा पशुओं की देखभाल के लिए 25 करोड़ रुपये का प्रावधान 1 मार्च से, DA कर्मचारियों के लिए 6 प्रतिशत की किस्त प्रदान करता रहेगा।

वित्तमंत्री की बंगले के बाहर हंगामा

वित्तमंत्री की बंगले के बाहर चंडीगढ़ पुलिस ने बिक्रम मजीठिया को हिरासत में लिया। उनके साथ अकाली दल के कुछ विधायकों और यहां तक कि मजीठिया की सुरक्षा में लगे पुलिसकर्मियों को भी हिरासत में लिया गया है।

बजट भाषण से पहले अकाली दल का हंगामा

बजट भाषण शुरू होने से पहले अकाली दल के सदस्यों ने भारी हंगामा किया। उनकी मांग थी कि किसान आत्महत्या करने वालो के परिजनों को मुआवजा दिया जाए व उनके परिवार के एक सदस्य को नौकरी दी जाए।विधानसभा की कार्यवाही 20 मिनट के लिए स्थगित की गई। बिक्रम सिंह मजीठिया कोठी के आगे छोटी ही दीवार को फांदने की कोशिश में गिर गए। पवन टीनू को पड़े पुलिस के धक्के।

पहली बार किसी वित्त मंत्री को रोका गया

पंजाब विधानसभा में बजट भाषण शुरू होते ही हंगामा हो गया। 10.58 बजे पर हाउस स्थगित हुआ और 10.59 पर वित्त मंत्री सदन में पहुंचे। बताते हैं कि पंजाब विधानसभा के इतिहास में यह पहला मौका है जब किसी वित्त मंत्री को बजट भाषण के समय रोका गया। बजट के दिन वित्तमंत्री की कोठी घेरी गई हो और इस वजह से वित्तमंत्री समय पर बजट पेश न कर पाए हों, ऐसा संभवतः पहली बार हुआ है।

- वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल थोड़ी देर में विधानसभा पहुंचेंगे। बजट भाषण के लिए विधायकों के पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया है। पंजाब में बिजली का मुद्दे गरमााया हुआ है। वित्‍तमंत्री से इस मोर्चे पर भी राहत की उम्मीद है।

- बजट पेश होने से पहले आम आदमी पार्टी के विधायकों ने विधानसभा के बाहर प्रदर्शन किया।

- कुछ ही देर में पेश होगा पंजाब का बजट। विधानसभा का बजट सेशन शुरू होने से पहले मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पंजाब कांग्रेस के विधायको के साथ बैठक की। बजट से पहले कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बड़ा ऐलान किया कि बहबलकलां गोलीकांड मामले की जांच अब पंजाब पुलिस करेगी।

- पंजाब सरकार की सबसे बड़ी चुनौती है राजस्व बनाए रखना। वित मंत्री मनप्रीत सिंह बादल पहले ही साफ कर चुके हैं कि वे बाहरी स्रोत से कर्ज लेने के पक्ष में नहीं है। पिछले बजट में सरकार ने अनुमान लगाया था कि उसे Rs. 26,475 करोड़ के कर्ज की जरूरत हो सकती है, लेकिन 31 जनवरी, 2020 तक उसने 11,680.02 करोड़ रुपए ही उधार लिए हैं। प्रदेश पर साल दर साल बढ़ते कर्ज के बीच अमरिंदर सरकार इसे अपनी उपलब्धि बता रही है।

Posted By: Arvind Dubey

fantasy cricket
fantasy cricket