Rajasthan Assembly: कांग्रेस के नेताओं पर आरोप लगते हैं कि वे गांधी परिवार की हां में हां मिलता हैं। अब राजस्थान में कांग्रेस के एक विधायक ने जो बात कही है, उसकी चर्चा जयपुर से लेकर दिल्ली तक शुरू हो गई है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के सलाहकार सिरोही से विधायक संयम लोढ़ा ने भरी विधानसभा में स्वीकार किया है कि वे और उनके साथी सभी कांग्रेस नेता गांधी-नेहरू परिवार के गुलाम हैं। संयम लोढ़ा ने यह चौंकाने वाला बयान बुधवार को उस समय दिया, जब राजस्थान विधानसभा में हरिदेव जोशी पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय (संशोधन) विधेयक, 2022 पेश किया जा रहा था।

जब सदन में इस बिल पर बहस हो रही थी तब संयम लोढ़ा अचानक उठे और कहा, हां, हम गुलाम हैं। हम अपनी आखिरी सांस तक गांधी-नेहरू की गुलामी करेंगे। क्योंकि इस देश का निर्माण गांधी-नेहरू परिवार ने किया है।' लोढ़ा ने जैसे ही कांग्रेसियों को गांधी परिवार का गुलाम बताया, विपक्ष के उपनेता राजेंद्र राठौड़ उठे और तंज करा, 'अरे गुलाम। यह आप लोगों की एक नई संस्कृति है। गुलामी के लिए बधाई।'

Rajasthan Assembly: गांधी परिवार की गुलामी पर हंगामा

इस तरह की बयानबाजी के साथ ही सदन में हंगामा शुरू हो गया। भाजपा विधायक कालीचरण सराफ ने कहा कि 'इतनी गुलामी के बाद भी कांग्रेस ने आपको (लोढ़ा) टिकट नहीं दिया'। बता दें, लोढ़ा ने 2018 के विधानसभा चुनाव में निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ा था और बाद में कांग्रेस का समर्थन किया था। हाल ही में उन्हें सीएम का सलाहकार नियुक्त किया गया था।

राठौड़ ने लोढ़ा पर एक और कटाक्ष करते हुए कहा कि गुलाम अपने मन की बात नहीं कह सकते। बाद में, विधानसभा ने हरिदेव जोशी पत्रकारिता और जनसंचार विश्वविद्यालय (संशोधन) विधेयक, 2022 को ध्वनि मत से पारित कर दिया। बता दें, अगले साल के शुरू में राजस्थान विधानसभा के चुनाव होने हैं। भाजपा जहां सत्ता में वापसी के लिए दम लगा रही है, वहीं कांग्रेस के सामने सत्ता बचाने की चुनौती है।

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close