महाराष्ट्र में कोरोना के बिगड़ते हालात के बीच मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे आज कोरोना टास्क फोर्स के साथ बैठक की। लॉकडाउन को लेकर कोई फैसला नहीं हो सका और कल फिर एक बार ये बैठक होगी। उम्मीद जताई जा रही है कि सोमवार को किसी भी समय, प्रदेश में कंप्लीट लॉकडाउन का ऐलान किया जा सकता है। इसकी समय सीमा 8 दिन से लेकर 15 दिनों तक की हो सकती है।

उधर, महाराष्ट्र में कोरोना के मामलों में तेजी बनी हुई है। पिछले 24 घंटों में यहां कोविड संक्रमण के 63,294 नये मामले दर्ज हुए हैं, जबकि 349 की मौत हो गई। इसके साथ ही प्रदेश में कुल संक्रमति मामलों की संख्या बढ़कर 34,07,245 हो गई है, जबकि मरनेवालों का आंकड़ा 57,987 पहुंच गई है। सिर्फ मुंबई में की बात करें, तो यहां कोरोना संक्रमण के 9,989 नये मामले सामने आए, और 58 लोगों की मौत हुई।

इस बीच, बृहन्मुंबई पालिका परिषद (बीएमसी) ने महानगर में सुबह सात बजे से रात आठ बजे तक शराब की होम डिलीवरी की अनुमति दे दी है। होम डिलीवरी करने वाले कर्मचारियों को कोरोना से बचाव के सभी नियमों का पालन करना होगा।

उद्धव ठाकरे बोले, सम्पूर्ण लॉकडाउन ही विकल्प

इससे पहले महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य में कोरोना की बिगड़ती स्थिति पर विचार-विमर्श के लिए शनिवार शाम सर्वदलीय बैठक बुलाई थी। वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए हुई इस बैठक में सत्तारूढ़ महा विकास अघाड़ी के सभी प्रमुख नेताओं के अलावा नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फडनवीस एवं प्रदेश भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल भी शामिल हुए। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए कठिन निर्णय लेने का वक्त आ गया है। अब लॉकडाउन के सिवाय कोई और विकल्प नहीं दिख रहा है। मुख्यमंत्री कार्यालय ने बयान जारी कर कहा कि मुख्यमंत्री ने बैठक में भरोसा दिलाया कि सरकार गरीबों, मजदूरों और दैनिक वेतन भोगियों को होने वाली परेशानियों को दूर करेगी।

दिल्ली में रिकॉर्ड स्तर पर कोरोना, कई तरह की लगी पाबंदी

राजधानी दिल्ली में कोरोना रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है। रविवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटों में राजधानी में संक्रमण के 10,774 नये मामले सामने आये हैं, और 48 लोगों की मौत हुई है। इस तरह दिल्ली में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 7, 25,197 पहुंच गई है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सभी को कोरोना का वैक्सीन लगाने की अनुमति देने की मांग की है।

बेकाबू हो चुके कोरोना के बीच दिल्ली सरकार ने कई महत्वपूर्ण फैसले लिए हैं। दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) ने देर शाम आदेश जारी कर भीड़ जमा होने वाले सभी सामाजिक, धार्मिक, सामाजिक और राजनीतिक कार्यक्रमों पर रोक लगा दी है। बसों की सभी सीटों पर बैठने की मिली छूट को खत्म करते हुए इसे अब 50 फीसद कर दिया गया है। मेट्रो की बोगी में भी अब क्षमता से 50 फीसद लोग ही यात्रा कर सकेंगे। किसी भी स्टेडियम में बड़े खेल कार्यक्रमों में दर्शकों के बैठने की अनुमति नहीं होगी।

गुजरात सरकार लॉकडाउन के पक्ष में नहीं

वहीं गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने शनिवार को कहा कि सरकार राज्य में लॉकडाउन लगाने के पक्ष में नहीं है। हालांकि, उन्होंने शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में बाजार संगठनों द्वारा अपनी तरफ से लॉकडाउन लगाने के फैसले का स्वागत किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीबों की परेशानियों को देखते हुए सरकार लॉकडाउन नहीं लगाना चाहती है। लोगों की अनावश्यक आवाजाही रोकने के लिए पहले से ही 24 में से 10 घंटे का कर्फ्यू लगाया गया है। उन्होंने उन खबरों को भी गलत बताया जिसमें कहा गया है कि सरकार कोरोना संक्रमितों और मृतकों के वास्तविक आंकड़े छिपा रही है।

Posted By: Arvind Dubey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags