लखनऊ। कानपुर में सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों का हत्यारोपित विकास दुबे की बिजनौर के हल्दौर क्षेत्र में स्कार्पियो गाड़ी में होनेे की सूचना पर जिलेभर में घेराबंदी कर वाहनों की चेकिंग की गई। एसपी सिटी ने बताया कि सोमवार दोपहर करीब दो बजे क‍िसी ने यूपी-112 पर सूचना दी क‍ि एक स्कार्पियो में व‍िकास दुबे घूम रहा है। इसके बाद जिले की सीमाएं सील कर वाहनों की चेकिंग की गई, लेकिन ऐसा कुछ नहीं निकला। एसपी ने बताया क‍ि सूचना देने वाले नंबर की भी पड़ताल की जा रही है।

कानपुर एनकाउंटर में वांछित फरार चल रहे हिस्ट्री शीटर विकास दुबे की तलाश में कानपुर मंडल की 40, दिल्ली और लखनऊ से आईबी, एसटीएफ सहित 20 यानी कुल 60 टीमों लगी हुई हैं। इन टीमों में अब तक कुल मिलाकर नौ सौ पुलिसकर्मी उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, राजस्थान और कोलकाता में दबिश दे रहे हैं।

पिता ने कहा- सुप्रीम कोर्ट तक जाएंगे

आशंका यह भी है कि विकास दुबे नेपाल की तरफ भाग निकला हो। हत्या, अपहरण, जबरन वसूली और दंगों के 60 से अधिक मामलों में वांछित विकास, शुक्रवार से ही फरार है। उधर, विकास दुबे के पिता ने बयान दिया है कि हम सुप्रीम कोर्ट तक जाएंगे, जब अदालत में साबित हो, तो उसे सजा देना।

पुलिस के लिए वह भयावह रात थी

कानपुर के बिठूर पुलिस स्टेशन के स्टेशन हाउस अधिकारी कौशलेंद्र प्रताप सिंह उस दुर्भाग्यपूर्ण दबिश में शामिल तीन पुलिस थानों की टीम में थे। उन्होंने इस असफल छापेमारी की भयावहता के बारे में बताया, जिसमें आठ पुलिस वाले मारे गए।

कौशलेंद्र ने बताया कि हमने अपने वाहनों को विकास दुबे के घर से 150-200 मीटर की दूरी पर छोड़ दिया क्योंकि सड़क को जेसीबी लगाकर बंद कर दिया गया था। वहां पहले से ही लोग छतों पर हमारा इंतजार कर रहे थे। जैसे ही हम घर के पास पहुंचे, चारों तरफ से गोलियां चलने लगीं और हम कवर के लिए भागे। अपराधियों द्वारा की गई गोलीबारी से पुलिस उपाधीक्षक सहित आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए।

इन दो वजहों से नाकाम हुई दबिश

कौशलेंद्र ने बताया कि हमने उन पर वापस फायर करने की कोशिश की, लेकिन हम अपराधियों को ठीक से नहीं देख पाए क्योंकि वे छतों पर थे। दूसरा, उन्होंने पहले ही राउंड की फायरिंग में हमारी टीम के अधिकांश सदस्यों को घायल कर दिया। कौशलेंद्र खुद भी गोलीबारी में घायल हो गए और एक अस्पताल में इलाज करा रहे हैं।

उन्होंने अपने दो सहयोगियों की जान बचाई थी। उन्होंने कहा कि छापे के दौरान मेरे साथ मौजूद दो अधिकारियों को गोली लग गई। चूंकि वे मेरे साथ थे, इसलिए मैंने उनके लिए जिम्मेदार महसूस किया। मैंने उन्हें बड़ी मुश्किल से वहां से निकाला।

पहले ही मिल गई थी दबिश की जानकारी

इस बीच अगले दिन हुई मुठभेड़ में पकड़े गए विकास दुबे के एक गुर्गे ने बताया कि दबिश के चार घंटे पहले ही विकास को थाने से किसी ने फोन करके दबिश की सूचना दी थी। पुलिस की जांच में एक अधिकारी और दो कॉन्सटेबल पर संदेह की सुई टिक गई है। इसके बाद कुख्यात अपराधी ने अपने करीब 30 साथियों और शार्प शूटर्स को बुलाया और 50 सदस्यीय पुलिस दल पर घात लगाकर हमला किया। मामले में चौबेपुर थाना प्रभारी को निलंबित कर दिया गया है और पुलिस उनसे पूछताछ कर रही है।

हड़पी थी एम्बेस्डर कार

इधर विकास दुबे को लेकर रोज नई जानकारियां सामने आ रही हैं। दबिश पर गए आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में फरार विकास दुबे की करतूत की फेहरिस्त बढ़ती जा रही है। शहर के कृष्णा नगर निवासी उसके भाई दीप प्रकाश दुबे के घर से शनिवार को बरामद की गई सरकारी नंबर की एंबेसडर कार एक युवक से दोनों भाइयों ने हड़पी थी।

यह जानकारी पुलिस की जांच में सामने आई है। कृष्णानगर पुलिस ने रायबरेली रोड निवासी विनीत पांडेय की तहरीर पर विकास दुबे और उसके भाई के खिलाफ धोखाधड़ी, धमकी देने, रंगदारी मांगने सहित विभिन्न धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की है।

एसीपी कृष्णा नगर दीपक कुमार सिंह ने बताया कि रिपोर्ट के आधार पर छानबीन की जा रही है। पुलिस टीम आरोपितों की तलाश कर रही है। विनीत पांडेय ने बताया कि उन्होंने नीलामी में एंबेसडर गाड़ी खरीदी थी। इसे विकास और उसके भाई ने उनसे हड़प ली थी। वह जब भी आरोपितों के पास अपनी गाड़ी वापस मांगने को जाते थे, उन्हें जान से मारने की धमकी दी जाती थी। गाड़ी वापस करने के बदले में मोटी रकम मांगते थे।

सोशल मीडिया पर जब रविवार को विनीत ने गाड़ी की फोटो देखी, तो उन्हें शक हुआ कि एंबेसडर उन्हीं की है। कृष्णा नगर थाने में जाकर गाड़ी देखी। पुलिस से जानकारी ली, तो पूरी बात पता चली। इसके बाद उन्होंने थाने में तहरीर दी।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan