Beating Retreat Ceremony : 74वें स्वतंत्रता दिवस पर अटारी-वाघा अंतरराष्ट्रीय सीमा Attari Wagah Border पर बिना दर्शकों की मौजूदगी के रिट्रीट सेरेमनी हुई। पाकिस्‍तान की तरफ से भी यह रस्‍म हुई। समारोह पूर्वक दोनों देशों के राष्‍ट्रीय ध्‍वज ससम्‍मान उतारे गए। इस दौरान मीडिया को आने की अनुमति दी गई। पाकिस्‍तान की ओर कोई समारोह तो नहीं हुआ, लेकिन पाकिस्‍तानी जवानों ने भी ध्‍वज उतारने कीह रस्‍म निभाई। रिट्रीट सेरेमनी के दौरान भारतीय जवानों में गजब का जोश दिखा। बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी के दौरान सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने जोश दिखाया तो भारत मां के नारे गूंज उठे। रिट्रीट सेरेमनी में देशभक्ति की धारा बह उठी। पूरा माहौल अद्भुत था। स्टैंडों में खचाखच भरे लोग तिरंगा लहराते जयघोष कर रहे थे। अटारी की ज्वाइंट चेक पोस्ट ( जेसीपी) पर होने वाले जश्‍न ए आजादी कार्यक्रम हमेशा ही देशभक्ति के जज्बे से लबरेज रहा है। भारत माता की जय के गगनभेदी जयघोष, हर तरफ गुंजायमान वंदेमातरम और ढोल की थाप पर 'यह देश है वीर जवानों का'गीत पर झूमती लोगों की टोलियां समारोह में रंग मचाती रही है। लेकिन, इस बार ऐसा नहीं था। 7 मार्च को कोरोना वायरस कोविड-19 की वजह से यहां दर्शकों के ओन पर रोक के कारण इस बार स्‍वतंत्रता दिवस समारोह सूना सा रहा। इसके बाद शाम को रिट्रीट सेरेमनी भी बिना दर्शकों के संपन्‍न हुआ। कोविड-19 की वजह से 7 मार्च से लोगों के आने पर रोक लगी है

सीमा सुरक्षा बल (BSF) के महानिदेशक एसएस देसवाल ने देश के 74 में स्वतंत्रता दिवस पर जेसीपी पर राष्ट्रीय ध्वज लहराया। बीएसएफ के जवानों ने राष्‍ट्रीय ध्‍वज को सलामी थी। उन्होंने बीएसएफ के अधिकारियों और जवानों को किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए हर वक्त तैयार रहने को कहा। डीजी देसवाल ने अधिकारियों और जवानों को स्वतंत्रता दिवस के मौके पर बधाई और शुभकामनाएं दीं l इस अवसर पर बीएसएफ के एडीजी सुरेंद्र परमार, पंजाब फ्रंटियर के आइजी महिपाल यादव और डीआइजी सेक्टर हेड क्वार्टर भूपेंद्र सिंह रावत भी मौजूद थे।

1959 में शुरू हुई थी Beating Retreat ceremony

बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी की शुरुआत वर्ष 1959 में शुरू की गई थी। यह हर रोज शाम को दोनों देशों के राष्ट्रीय ध्वज समारोह‍ के साथ उतारे जाते थे। इसमें भारत से बीएसएफ के जवान और पाकिस्तान की ओर से पाक रेंजर्स शामिल होते हैं। दोनों देशों के हजारों लोग पहुंचते हैं और अपने जवानों का जोश बढ़ाने के लिए देशभक्ति के नारे लगाते हैं। रिट्रीट सेरेमनी 156 सेकेंड की होती है। इसके बाद दोनों देशों की सीमा पर बने गेट फिर बंद कर दिए जाते हैं।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020