Parliament Winter Session: सोमवार से संसद का शीतकालीन सत्र शुरु होने जा रहा है। इस सत्र के काफी हंगामेदार रहने की आशंका है। सरकार ने सत्र के दौरान उठाए जाने वाले 26 विधेयकों को लिस्टेड किया है। इनमें निजी क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) को प्रतिबंधित करने और आरबीआई (RBI) की ओर से जारी की जाने वाली आधिकारिक डिजिटल मुद्रा के निर्माण के लिए एक सुविधाजनक ढांचा तैयार करने का विधेयक भी शामिल है। उधर, विपक्षी दलों ने सरकार पर हमले की रूपरेखा तैयार कर ली है। उत्तर प्रदेश और पंजाब समेत पांच राज्यों के चुनाव को देखते हुए हर पार्टी इस संसद सत्र में अपनी उपस्थिति दर्ज करने की कोशिश करेगी। कांग्रेस ने सभी विपक्षों दलों को एकजुट करने की कोशिश की है, लेकिन तृणमूल कांग्रेस (TMC) ने उनकी बैठक में शामिल नहीं होकर अपने इरादे स्पष्ट कर दिये हैं।

शीतकालीन सत्र सोमवार, 29 नवंबर से शुरू होगा और 23 दिसंबर को खत्म होने की संभावना है। सत्र के पहले ही दिन लोकसभा में तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने वाला बिल पेश होने की संभावना है। पहले दिन सदन की कार्यवाही शुरू होने के पहले लोकसभा स्पीकर ओम बिरला की अध्यक्षता में लोकसभा की कार्य मंत्रणा समिति की बैठक होगी, जिसमें ये फैसला होगा कि कृषि कानून वापसी बिल पर कितनी देर चर्चा होगी।

इससे पहले रविवार को संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी ने सत्र के पहले सर्वदलीय बैठक बुलाई थी। बैठक में कांग्रेस समेत तमाम विपक्षी पार्टियों ने न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) को कानूनी गारंटी देने के लिए कानून बनाने, कोरोना काल में मरे व्यक्तियों को मुआवजे, बीएसएफ का अधिकार क्षेत्र को बढ़ाए जाने, बढ़ती महंगाई, पेगासस जासूसी कांड, सीबीआई और ईडी निदेशक का कार्यकाल बढ़ाए जाने और महिला आरक्षण बिल का मुद्दा उठाया। संसद सत्र में भी मुख्यतः इन्हीं मुद्दों पर सरकार को घेरने की कोशिश होगी। इस बैठक में पीएम मोदी के नहीं पहुंचने का भी मुद्दा उठा।

Posted By: Shailendra Kumar