Chhattisgarh Pics : बिलासपुर में 107 सांपों को अजिता ने दी नई जिंदगी, देखें तस्वीरों में पूरी कहानी

6 photos    |  Published Tue, 12 May 2020 02:01 PM (IST)
1/ 644 दिन के लॉकडाउन में निकले बड़ी संख्या में सांप
44 दिन के लॉकडाउन में निकले बड़ी संख्या में सांप

बिलासपुर में लॉकडाउन के 44 दिन के भीतर शहर में बड़ी संख्या में विषधर निकले। उनके विचरण से लोगों में डर भी दिखा। घर में उठना-बैठना तो दूर, चैन से सोना भी दूभर हो चुका था। इस बीच एक ऐसी भी सख्स रही जिसने न केवल लोगों को राहत पहुंचाई, बल्कि जहरीले सांपों को बड़ी आसानी से पकड़कर व जंगल में छोड़कर उन्हें नई जिंदगी दी। शहर की बेटी अजिता पांडेय नर्सिंग की छात्रा होने के साथ ही वन्य प्राणियों के साथ भी लगाव रखती है। सांप पकड़ने में भी पूरी तरह से सिद्धहस्त है।

2/ 6कानन पेंडाजी जू में छोड़ती है अजिता
कानन पेंडाजी जू में छोड़ती है अजिता

अजिता सांपों को पकड़कर वह उन्हें जीवनदान देती है। डिब्बे में बंद कर शहर से दूर अचानकमार व कानन पेंडारी जू में छोड़ आती है। अजिता बताती है कि लॉकडाउन के दौरान उन्होंने वाट्सएप व सोशल मीडिया के जरिए अपना नाम व मोबाइल नंबर सार्वजनिक कर लोगों से अपील की थी कि घर या आसपास सांप निकलने पर आप उसे मारें नहीं, बल्कि तत्काल सूचना दें। इसका असर भी हुआ।

3/ 6परिवार में किसी ने नहीं किया ये काम
परिवार में किसी ने नहीं किया ये काम

जब-जब लोगों के फोन आते रहे झट अपनी स्कूटी उठाकर लोगों के बताए पते पर पहुंच जाती और सांप को पकड़कर उसे नया जीवनदान देती। सरकंडा थाने के पीछे आशा धाम मार्ग निवासी अजिता के पिता भेचेंद्र पांडेय एक आर्टिस्ट हैं। परिवार में सांप को पकड़ने एक भी सदस्य नहीं है। अजिता उनके खानदान में पहली बेटी है जिसने इस खतरनाक विषधरों को नई जिंदगी देने का बीड़ा उठाया है।

4/ 6सैकड़ों सांपों की बचा चुकी है जिंदगी
सैकड़ों सांपों की बचा चुकी है जिंदगी

प्रतीक्षा स्नेक सेल वाइल्ड लाइफ से जुड़कर अब तक सैकड़ों सांप की जिंदगी बचा चुकी है। वह कहती है कि सांप किसानों का मित्र है। पर्यावरण चक्र का सिस्टम है। इसे मारना नहीं चाहिए।

5/ 6सोशल मीडिया पर कई फॉलोअर
सोशल मीडिया पर कई फॉलोअर

बता दें कि इंस्टाग्राम और टिक टॉक पर बड़ी संख्या में अजिता के फालोअवर भी हैं। बीते 42 दिन के लॉकडाउन में अजिता ने करीब 107 सांपों की जिंदगी बचाई है।

6/ 6मवेशियों व कुत्तों को रोज खिलाती है खाना
मवेशियों व कुत्तों को रोज खिलाती है खाना

सांप ही नहीं पालतू जानवरों से भी अजिता को लगाव है। लॉकडाउन में एक ओर जहां इंसान के साथ मवेशी और कुत्ते भी परेशान हैं। ऐसे में प्रतिदिन मवेशियों और कुत्तों को भोजन भी कराती रही। पक्षियों के लिए दाना व पानी की भी व्यवस्था की है। रात 11 बजे तक शहर की सड़कों पर घूम-घूमकर उनका ख्याल रखती है। वह कहती है कि मुझे यह तड़पते हुए बच्चे लगते हैं। इसलिए सेवा में जुट जाती हूं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK