Menu

आखिर क्यों जूतों को रैक में ही रखना चाहिए, जाने यहां

   |  Thu, 18 Jan 2018 07:10 PM (IST)

हम अधिकतर जूते-चप्पलों को बेतरकीब ढंग से घर में इधर-उधर रखते हैं लेकिन, क्या आप जानते हैं कि इसके कई दुष्प्रभाव भी हैं जो घर की सुख समृद्धि पर असर डालते हैं। जाने वास्तु के अनुसार जूते-चप्पलों को कहां रखना चाहिए।

वास्तु के अनुसार जूतों को धरती के साथ जोड़ा जाता है। इसलिए जूते रखने वाले रैक की उंचाई कभी भी छत की उंचाई की एक चौथाई से ज्यादा नहीं होना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि ज्यादा उचांई तक जूतों का कैबिनेट होने से घर के लोगों का स्वास्थ प्रभावित होता है।

कभी भी घर के प्रवेश द्वार के बाहर जूतों के रैक को न रखें। इससे घर में आने वाली सुख-समृद्धि का नाश होता है। अगर रखना ही है तो इसे अंदर रखा जा सकता है।

घर में यदि हो सके तो जूतों के कैबिनेट को दक्षिण पश्चिम या पश्चिम में रखे। इसे उत्तर, उत्तर पूर्व या पूर्व की तरफ रखने से बचना चाहिए। उत्तर और पूर्व दिशा को देवों का स्थान माना जाता है। इसलिए इसे बचाकर रखें।

यह प्रयास करनी चाहिए कि जूते-चप्पल बेडरूम में न जाए। ऐसा माना जाता है कि इससे घर में बुरी शक्तियां आती हैं। अत जहां तक हो सके इसे बेडरूम में ले जाने से बचना चाहिए।

कभी भी शू कैबिनेट को किचन या पूजघर के नजदीक न रखें। जहां तक हो सके इन दोनों के बीच दूरी बनाकर रखें। किचन और पूजाघर के नजदीक रखने से कई निगेटिव एनर्जी आती है।

परिवार के सदस्यों को इस बात के लिए जरुर कहें कि वह अपना शू एक ही स्थान पर रखें। घर में शू या चप्पलों को इधर-उधर फैलाने से बचना चाहिए।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK