ये हैं भारत के अनूठे शिव मंदिर, मौका मिलें तो जरूर जाकर करें दर्शन

   |  Mon, 12 Feb 2018 05:46 PM (IST)

शिव या महादेव हिंदू धर्म में सबसे महत्वपूर्ण देवताओं में से एक है। वह त्रिदेवों में एक देव हैं। इन्हें देवों के देव भी कहते हैं। इन्हें भोलेनाथ, शंकर, महेश, रुद्र, नीलकंठ,गंगाधार के नाम से भी जाना जाता है। भारत में ऐसे कई अद्भुत मंदिर हैं जहां जाकर आप शिव दर्शन का लाभ उठा सकते हैं। यहां जानिए ऐसे ही अद्भुत और अनूठे शिव मंदिरों के बारे में:

लिंगराज मंदिर, ओडिशा: भुवनेश्वर स्थित ये मंदिर शहर के प्राचीन मंदिरों में से एक है। इस मंदिर का वर्णन छठी शताब्दी के लेखों में भी पाया जाता है।

घृष्णेश्वर महादेव मंदिर, औरंगाबाद: भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक घृष्णेश्वर महादेव मंदिर है। ऐसा कहा है कि यहां दर्शन करने से सभी पापों से मुक्ति मिल जाती है और हर प्रकार की सुख-समृद्धि प्राप्त होती है।

मल्लिकार्जुन, आंध्रप्रदेश: आन्ध्र प्रदेश के कृष्णा जिले में कृष्णा नदी तट पर श्रीशैल पर्वत पर श्रीमल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग विराजमान है। इसे दक्षिण का कैलाश भी कहा जाता है।

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग, गुजरात: नागेश्वर ज्योतिर्लिंग भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है। मंदिर के अंदर भगवान शिव की ध्यान मुद्रा में एक बड़ी ही मनमोहक और विशाल प्रतिमा लगी हुई है।

त्र्यम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग, नासिक: शिव जी के बारह ज्योतिर्लिगों में त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग को दसवां स्थान दिया गया है। इस ज्‍योतिर्लिंग में ब्रह्मा, विष्‍णु और महेश तीनों विराजित हैं।

मुरुदेश्वर मंदिर, कर्नाटक: मेंगलोर से 165 किमी दूरी पर मुरुदेश्वर मंदिर अरब सागर में स्थित है। मंदिर में लगी भगवान शिव की मूर्ति विश्व की दूसरी सबसे बड़ी मूर्ति है।

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग, महाराष्ट्र: भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र के पुणे के सह्याद्रि पर्वत पर स्थित है। मोटेश्वर महादेव के नाम से भी जाना जाता है।

बैद्यनाथधाम, देवघर झारखंड: इसे मनोकामना लिंग भी कहा जाता है। मान्‍यता है कि इस ज्‍योतिर्लिंग को राक्षसराज रावण ने कैलाश पर्वत पर घोर तपस्‍या के बाद भगवान शिव से वरदान स्‍वरूप प्राप्‍त किया था।

काशी विश्वनाथ मंदिर, वाराणसी: काशी विश्वनाथ मंदिर बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है। मान्यता है कि एक बार इस मंदिर के दर्शन करने और पवित्र गंगा में स्‍नान कर लेने से मोक्ष की प्राप्ति होती है।

महाकालेश्वर मंदिर, उज्जैन: महाकालेश्वर मंदिर भारत के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है।

रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग, तमिलनाडु: रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग बारह ज्योतिर्लिगों में से एक माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि उत्तर में जितना महत्व काशी का है, उतना ही महत्व दक्षिण में रामेश्वरम का भी है।

अमरनाथ, जम्मू-कश्मीर: अमरनाथ गुफा भगवान शिव के प्रमुख धार्मिक स्थलों में से है। साथ ही इसे तीर्थों का तीर्थ भी कहा जाता है। मान्यता है कि यहीं पर भगवान शिव ने माता पार्वती को अमरत्व का रहस्य बताया था।

केदरनाथ मंदिर, उत्तराखंड: हिमालय की गोद में स्थित केदारनाथ भी बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है। 3562 मीटर की ऊंचाई पर स्थित होने के कारण सर्दियों में ये मंदिर बर्फ की चादर से ढक जाता है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK