जयपुर। राजस्थान के टोंक जिले के खेडली गांव में छह साल की मासूम के साथ दुष्कर्म कर हत्या करने के आरोपी पर मंगलवार को जनता का गुस्सा फूट पड़ा। पुलिस जब उसे कोर्ट में पेश करने के लिए लाई तो वहां मौजूद आम लोगों और वकीलों ने उससे मारपीट की कोशिश की। पुलिस बड़ी मुश्किल से उसे कोर्ट में पेश कर पाई। कोर्ट ने आरोपी महेन्द्र मीणा को छह दिसंबर तक की पुलिस रिमांड पर भेजा है।

मालूम हो कि टोंक के खेडली कस्बे की छह साल की बच्ची के साथ गांव के ही एक ट्रक ड्राइवर महेन्द्र मीणा ने दुष्कर्म किया था और बाद में बेल्ट से उसका गला घोंट कर मार दिया था। पुलिस ने 24 घंटे के भीतर ही आरोपी को गिरफ्तार कर लिया था। मंगलवार को उसे जिले की पोक्सो कोर्ट में पेश करने के लिए लाया गया था। यहां उसकी पेशी से पहले ही काफी संख्या मे आम लोग और वकील मौजूद थे।

पुलिस आरोपी को लेकर जैसे ही कोर्ट पहुंची, वहां मौजूद लोगो और वकीलों ने कोर्ट परिसर में आरोपी से हाथापाई का प्रयास किया। इस बीच महेंद्र को बचाने के प्रयास में पुलिस और वकीलों के बीच धक्कामुक्की हुई। काफी हंगामा हुआ। वकीलों और आम लोगो का कहना था कि इसे हमें हमारे हवाले कर दो, हम इसका इंसाफ कर देंगे।

हालात यह बने कि पुलिस को काफी सतर्कता में सुरक्षा घेरे के बीच इसे कोर्ट में पेश करना पड़ा। जहां पीठासीन जज ने आरोपी को 6 दिसंबर तक पुलिस रिमांड पर भेज दिया। अतिरिक्त पुलिस आयुक्त विपिन कुमार ने हंगामे को लेकर कहा कि यह मानवीय स्वभाव है। ऐसे गुस्सा होना स्वाभाविक है। लेकिन उसे बचाना भी ड्यूटी है।

उन्होंने मामला शांत होने पर बार ऐसोसिएशन का आभार भी जताया। पुलिस ने आरोपी के लिए पांच दिन का रिमांड मांगा था। लेकिन कोर्ट ने 6 दिसंबर तक 3 दिन का रिमांड दिया।

Posted By: Ajay Barve