राजस्थान में लाॅकडाउन के दौरान दिवंगत हुए लोगों के अस्थि विसर्जन के लिए भाजपा विधायकों की पहल के बाद अब सरकार भी चेती है और इसके लिए विशेष बसें चलाने का निर्णय किया गया है। मुख्यमंत्री अशेाक गहलोत ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश सरकार से इन बसों के संचालन पर सहमति के लिए शीघ्र वार्ता की जाए।

लाॅकडाउन के दौरान दिवंगत हुए लोगों के अस्थि विसर्जन की समस्या लगातार बनी हुई थी, क्योंकि परिवहन के साधन बंद थे। लाॅकडाउन चार में जब इसकी थोडी छूट मिली तो भाजपा के एक-दो विधायकों ने इस मामले में पहल की और अनुमति लेकर अपने खर्च पर अपने विधानसभा क्षेत्र के लोगों को भेजना शुरू किया। सांगानेर के विधायक अशोक लाहोटी की ओर से भेजे गए यात्री वापस लौट भी आए हैं। भाजपा के ही एक दो अन्य विधायकों ने भी इसी तरह बसें भेजी है।

अब इस मामले में सरकार भी आगे आई है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अधिकारियों से कहा है कि यह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण और पीड़ादायक है कि लॉकडाउन की पालना के कारण परिजन के निधन के बाद शोकाकुल परिवार अस्थियों का विसर्जन करने नहीं जा पाए। राज्य सरकार इस मार्मिक स्थिति से वाकिफ है। इस मानवीय पहलू को ध्यान में रखते हुए ये विशेष बसें चलाने का निर्णय किया गया है। इसके लिए अधिकारी स्तर पर उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड राज्यों से बातचीत कर विशेष बसें संचालित की जाएंगी।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना