जयपुर (ब्यूरो)। राजस्थान के जोधपुर स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में लापरवाही का एक मामला सामने आया है। एक कैंसर मरीज को 18 में से 11 दिन तक रेडियोथैरेपी नहीं मिलने के मामले में राजस्थान मानवाधिकार आयोग ने संज्ञान लिया है और इस मामले में एम्स प्रशासन को नोटिस देकर 12 सितम्बर तक जवाब मांगा है।

मानवाधिकार आयेाग को इस बारे में ईमेल से एक शिकायत मिली है। परिवादी ने यह शिकायत एम्स के निदेशक को भी भेजी है।

इस शिकायत में बताया गया है कि परिवादी की पत्नी का जोधपुर एम्स मे कैंसर का उपचार चल रहा है। मरीज की आखिरी कीमोथैरेपी के बाद 21 दिन तक रेडियोथैरेपी की डोज दी जानी थी। शिकायत के लिए भेजे गए ईमेल के अनुसार आठ अगस्त से शुरू हुई रेडियोथैरेपी में 26 अगस्त तक आठ दिन शनिवार रविवार और अन्य अवकाश रहे तथा तीन दिन मशीन खराब रही। इस तरह कुल 18 दिन मे से 11 दिन मरीज को रेडियोथैरेपी नहीं मिल पाई।

आयोग के अध्यक्ष जस्टिस प्रकाश टाटिया ने 18 दिन में से 11 दिन अवकाश और मशीन खराब रहने के कारण उपचार नहीं मिलने को काफी गम्भीरता से लिया है। एम्स के अधीक्षक से 12 सितम्बर तक मामले में तथ्यात्मक रिपोर्ट मांगी है।