जयपुर (ब्यूरो)। राजस्थान में भाजपा पहली बार विधानसभा चुनावों में 200 सीटों पर हाथ आजमा रही है। अब तक जनता दल, इनेलो से गठबंधन के चलते 1980 के बाद से वह सभी सीटों पर कभी चुनाव नहीं लड़ पाई है। इस बार केंद्रीय स्तर पर जद से गठबंधन समाप्त हो गया इसलिए पार्टी पूरे 200 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ रही है।

गठबंधन समाप्त होने के कारण प्रदेश के आदिवासी बाहुल्य दो जिलों बांसवाड़ा एवं डूंगरपुर में पार्टी को परेशानी जरूर हो रही है। अब तक भाजपा का इन दोनों जिलों में नेटवर्क नहीं था, जद के भरोसे यह क्षेत्र छोड़ा हुआ था। वर्ष 1993 के चुनाव से ही पार्टी प्रदेश में 196 से ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ने की स्थिति में आई है।

जनता दल से गठबंधन

1993 से पहले के चुनावों में पार्टी का जनता दल के साथ गठबंधन था, लेकिन अयोध्या प्रकरण के बाद जनता दल अलग हो गया। 1993 के चुनावों में जनता दल से अलग होकर नया दल बनाने वालों एवं अन्य दलों को पार्टी ने चार सीटों पर समर्थन दिया था।

1998 के चुनाव से पहले केंद्र स्तर पर एनडीए का गठन हो गया और उसके बाद से ही पार्टी एनडीए में आने वाली जदयू और इनेलो के साथ सीटें बांटती आई है। भाजपा का प्रदेश में चुनाव गठबंधन को लेकर कभी अच्छा अनुभव नहीं रहा। 2008 के चुनाव में पार्टी ने 7 सीटें दूसरी पार्टियों को दी, लेकिन सहयोगी दल सिर्फ एक ही सीट निकाल पाए। 1998 के बाद हुए चुनावों में भी सहयोगी दल एक-दो से ज्यादा सीटें नहीं निकाल पाए।

प्रदेश उपाध्यक्ष अरुण चतुर्वेदी ने बताया कि पार्टी पहली बार सभी 200 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। जदयू भी गठबंधन से हट चुकी है। ऐसे में और किसी पार्टी का गठबंधन राज्य में प्रभाव नहीं डाल रहा।

राजस्थान में आज मोदी और राहुल नजर आएंगे आमने-सामने

भाजपा-कांग्रेस के सबसे दिग्गज नेता प्रदेश में चुनावी सभाओं को संबोधित करने आएंगे। भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी मंगलवार को पांच चुनावी सभाओं को संबोधित करेंगे। जयपुर जिले में उनकी पहली सभा दूदू में रखी है। इसके अलावा वे अलवर, डीग-कुम्हेर, बांदीकुई और सवाई माधोपुर में सभा को संबोधित करेंगे। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह 20 नवंबर को आमेर में चुनावी सभा को संबोधित करेंगे। इसके अलावा वे दातारामगढ़ और बयाना में भी चुनावी सभा को संबोधित करेंगे। वहीं कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी मंगलवार को प्रदेश का दौरा करेंगे। सुबह 11 बजे उनकी चित्तौड़ में और दोपहर 12:30 बजे बीकानेर में सभा है।

31 बागी बने पार्टी के लिए मुसीबत, मनाने की सभी कोशिशें नाकाम

टिकट वितरण से नाराज 31 विधानसभा सीटों पर भाजपा के बागी प्रत्याशी पार्टी के अधिकृत प्रत्याशियों के खिलाफ चुनाव लड़ रहे है। इन्हें मनाने के लिए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह, प्रदेश अध्यक्ष वसुंधरा राजे और राष्ट्रीय सचिव भूपेन्द्र यादव ने प्रयास भी किया, लेकिन अब 31 सीटों पर ये बागी प्रत्याशी पार्टी के लिए मुसीबत बने हुए है।

Posted By: