जयपुर (ब्यूरो)। राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने सोमवार को राज्य का सालाना बजट (2014-15) पेश कर जनता को कई सौगातें देने के साथ ही 200 करोड़ रुपए के करभार की कड़वी दवा भी दी है।

राजे ने जनता पर 350 करोड़ रुपए का करभार डाला है और 150 करोड़ रुपए की कर राहत दी है। प्रदेश की जनता के लिए सिनेमा व केबल टीवी, कुछ साबुत मसाले, कपड़े आदि के लिए अब ज्यादा खर्च करना पड़ेगा। वहीं बायोगैस, रीठा, शिकाकाई, डेजर्ट कूलर आदि सस्ते कर दिए हैं। कुछ वस्तुओं पर सेस लगाने की घोषणा भी की गई है।

इस कड़वी दवा के साथ ही प्रदेश की 67 प्रतिशत जनता के लिए 30 हजार से तीन लाख रुपए तक के स्वास्थ्य बीमा, पुनर्जीवित की गई भामाशाह योजना के तहत बीपीएल परिवारों की महिलाओं के खाते में दो-दो हजार रुपए की आर्थिक सहायता, सरकारी स्कूलों में नौवीं में प्रवेश लेने वाली लड़कियों को साइकल सहित प्रदेश में आधारभूत सुविधाओं के विकास के लिए कई घोषणाएं भी बजट में की गई हैं।

पूर्व सरकार पर निशाना

राजे ने बजट भाषण में राज्य की खराब आर्थिक स्थिति के लिए पिछली कांग्रेस सरकार पर जमकर हमला बोला। मेट्रो परियोजना के बारे में उन्होंने कहा कि आर्थिक रूप से खराब होने के बावजूद इस योजना पर इतना पैसा खर्च हो गया है कि इसे जारी रखना हमारी मजबूरी है। इसी तरह बाड़मेर रिफाइनरी के मामले में भी पिछली सरकार ने प्रदेश के हितों का ध्यान नहीं रखते हुए एमओयू (समझौता) किया। अब उनकी सरकार फिर से कंपनी से बातचीत करेगी। उन्होंने गहलोत सरकार की निःशुल्क दवा और निःशुल्क जांच योजना की समीक्षा की बात भी कही।

नाम लिए बगैर टिप्पणी

सड़कों की खराब हालत के लिए राजे ने पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का नाम लिए बगैर टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि सदन के उस माननीय सदस्य को छोडकर जिसने पिछले पांच वर्ष में हवाई जहाज से नीचे पैर ही नहीं रखा, यहां उपस्थित सभी सदस्य राज्य की सड़कों की खराब हालत से परिचित हैं।

इंट्रा स्टेट एयर सर्विस

राजे ने राजस्थान में एक शहर से दूसरे शहर जाने के लिए इंट्रा स्टेट एयर सर्विस शुरू करने की बात भी कही है। इसके लिए राज्य सरकार केंद्र की कंपनी पवनहंस के साथ धार्मिक स्थलों तक हेलिकॉप्टर सेवाएं चलाने के लिए अनुबंध करेगी। इसके अलावा 16 हवाई पट्टियों को सुधार कर निजी एयर कंपनियों से हवाई सेवा शुरू करने के लिए कहा जाएगा।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket