राजस्थान में पेयजल का संकट गहरा गया है। प्रदेश के 18 शहरों व कस्बों में तीन से चार दिन में एक बार लोगों को पानी मिल पा रहा है । प्रदेश के सीमावर्ती बाड़मेर जिले के सिवाना कस्बे के लोगों को पांच दिन में एक बार ही पीने का पानी मिल पा रहा है । जोधपुर, अजमेर, भीलवाड़ा व उदयपुर जैसे बड़े शहरों में भी दो दिन में एक दिन ही पानी की सप्लाई हो रही है।

जलदाय विभाग से मिली जानकारी के अनुसार 18 शहरों व कस्बों में तीन से चार दिन और 79 शहरों एवं कस्बों में दो दिन में एक बार पानी मिल रहा है। पुष्कर एवं माउंट आबू में दो से तीन दिन में पानी सप्लाई हो रही है। आदेश के बाद भी जलदाय विभाग के इंजीनियरों ने हालात से निपटने के लिए कोई योजना नहीं बनाई, जिससे समस्या और बढ़ गई है। ऐसे में लोगों को पानी के संकट का सामना करना पड़ रहा है । गर्मी के कारण पानी की मांग दो गुनी होने से समस्या और बढ़ गई है।

इन जिलों में सूखे के हालात

प्रदेश के बाड़मेर, जालौर, अजमेर, जैसलमेर, जोधपुर, बीकानेर, नागौर, चूरू, पाली, सिरोही और दौसा जिलों में सूखे के हालात हैं। इन जिलों में तीन से चार दिन में एक बार पांच से दस किलोमीटर दूर से पानी पहुंचाया जा रहा है।

अब तक जिन शहरों एवं कस्बों में तीन से चार दिन में पानी मिल रहा है, वहां 48 घंटे में पानी की सप्लाई करने को लेकर योजना बनाई गई है । पाइप लाइन से आपूर्तिं करने के अलावा टैंकरों से सप्लाई की जाएगी।

-डॉ. बीडी कल्ला, जलदाय मंत्री

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना