जयपुर। इस दिवाली मिट्टी के दीए जलाएं और कुम्हारोंं, हुनरमंदों और जरूरमंदों के घर खुशियां पहुंचाएं। राजस्थान के उदयपुर में प्रवास कर रहे दिगम्बर जैन संत अंतर्मुखी पूज्य सागर महाराज ने इसी सोच के साथ “दिवाली खुशियों वाली“ अभियान शुरू किया है। अभियान के लिए तीन लाख दीए बनवाए गए हैंं और फिलहाल यह अभियान जयपुर, किशनगढ़, अजमेर और उदयपुर में चल रहा है, जिसे जल्द ही पूरे राजस्थान में फैलाया जाएगा।

जैन संत पूज्य सागर महाराज का मानना है कि दिवाली पर समाज के लोग मिट्टी के दिए जलाएं तो उन कुम्हारों, हुनरमंदों और जरूरतमंदों की दिवाली भी खुशियों वाली हो सकती है, जो पिछले कुछ वर्षों से बाजार में आए चाइनीज सामान के कारण अपना सामान बिकने का इंतजार करते रहते हैं। महाराज का मानना है ये कुम्हार, हुनरमंद हमारे अपने लोग हैं और हमारी छोटी सी मदद इनकी खुशियां बढ़ा सकती है।

अभियान के प्रदेश संयोजक श्रवण सिंह राठौड़ ने बताया कि अभियान के लिए हमने तीन लाख दीपक तैयार कराए हैं। इन्हें जरूरतमंदों और बेरोजगारों को निशुल्क दिया गया है। जयपुर में ही करीब 15 जगह स्टाॅल लगा कर इन्हें बेचा जा रहा है और जो पैसा आ रहा है, वह इन जरूरतमंदों के पास ही जा रहा है। जो व्यक्ति अभियान से जुडना चाहते है, वे या तो इन लोगों से दीपक खरीदें या हमें संदेश भेज दें। अभियान से जुड़े कुम्हार और हुनरमंद उनके घर तक दीपक पहुंचा देंगे। एक दीपक की कीमत एक रूपया रखी गई है।

राठौड़ बताया कि जयपुर में आज महारानी काॅलेज से अभियान की शुरूआत की गई, क्योंकि हमारा मानना है कि लडकियां ही परिवार की धुरी होती है और भविष्य में बनती भी है। इन्हें प्रेरित किया जाए तो पूरा परिवार प्रेरित हो सकता है। कार्यक्रम की मुख्य अतिथि राजस्थान सरकार की प्रमुख सचिव कार्मिक श्रीमती रोली सिंह थी। उन्होंने छात्राओं से कहा कि वे पूरे मन से इस अभियान से जुड़ें ताकि समाज के प्रति वे अपनी जिम्मेदारी निभा सके।

कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि राजस्थान विश्वविद्यालय शिक्षक संघ के अध्यक्ष जयंत सिंह ने कहा कि समाज का सभ्रांत तबका ऐसे अभियान से जुड़ता है तो इसका असर बहुत नीचे तक जाता है। ऐसे में हम सबको इस अभियान से जुड़ना चाहिए। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए महारानी काॅलेज की प्राचार्य निधिलेखा शर्मा ने ऐसे अभियान के लिए काॅलेज को चुनने के लिए धन्यवाद दिया।

कार्यक्रम की विशिष्ट अतिथि महारानी काॅलेज छात्रसंघ की अध्यक्ष आकृति तिवाडी और छात्रनेता संजय माचेडी थे। इस अवसर पर विभिन्न अतिथियों ने अपनी ओर से आर्थिक सहयोग दे कर दीपक खरीदे और छात्राओंं को भेंट किए। राठौड़ ने बताया कि इसी के साथ जयपुर के कई स्कूलों और संस्थानों में भी इस अभियान को शुरू किया गया है।

यह भी पढ़ें : butati dham rajasthan : लकवे के मरीजों के लिए राहत बनकर उभरा है राजस्‍थान का बुटाटी धाम मंदिर, कैसे बना आस्‍था का तीर्थ, पढ़ें विस्‍तार से

Posted By: Navodit Saktawat