जोधपुर, 1 सितम्बर। पश्चिमी राजस्थान के महाकुंभ कहलाए जाने वाले विख्यात बाबा रामदेव (रामसा पीर) मेले को बीते दिनों स्थगित कर दिया था। अब जोधपुर रेंज पुलिस आईजी ने सभी जिलों को निर्देशित किया है कि रामदेवरा जाने वाली जिले की सीमाओं पर नाकाबंदी कर मेले में जा रहे श्रद्धालुओं को समझाएं और उन्हें वापस भेजें। इस निर्देश के बाद बाड़मेर एसपी ने जिले के सभी थानों और डीएसपी को इसे सुनिश्चित कराने का आदेश दिया है। आपको बता दें कि 24 अगस्त को बाबा रामदेव समाधि समिति और पोकरण एसडीएम ने 7 सितंबर से 17 सितंबर तक बाबा रामदेव मंदिर में श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रोक लगा दी है। कोरोना की वजह से मेले को भी तीसरी बार स्थगित किया गया था। इसके बावजूद लोगों के आने की आशंका को देखते हुए प्रशासन ने पुलिस से मदद मांगी थी।

रामदेवरा मेला 10 दिन के लिए स्थगित होने के बाद जोधपुर रेंज पुलिस आईजी ने संबंधित जिलों को निर्देश दिया है कि रामदेवरा जाने वाले रास्तों पर नाकाबंदी कर वाहनों और पैदल जाने वाले श्रद्धालुओं को समझा-बुझाकर वापस भेजें। उन्हें बताएं कि कोविड के चलते मेला स्थगित हो गया है। साथ ही इसका अपने-अपने क्षेत्र में व्यापक प्रचार-प्रसार भी करें। बाड़मेर एसपी आनंद शर्मा ने बताया कि बुधवार को मैंने सभी थानों को इस बाबत निर्देशित कर दिया है।

जातरूओं से करेंगे समझाइश

बाबा रामदेव के दर्शन करने के लिए महाराष्ट्र, गुजरात से भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु पैदल और वाहनों से आते हैं। पैदल जातरू (श्रद्धालु) रवाना भी हो चुके हैं, जो बाड़मेर होते हुए रामदेवरा पहुंचते हैं। इनके लिए जगह-जगह भंडारे भी लग गए हैं। ऐसे में अब पुलिस पैदल रवाना हुए जातरूओं से समझाइश कर उन्हें वापस घर भेजने की कोशिश करेगी। कोरोना की संभावित तीसरी लहर के मद्देनजर ही यह निर्णय लिया गया है।

उधर, जिला प्रशासन बाबा रामदेव की आरती को ऑनलाइन दिखाने की व्यवस्था करने का विचार कर रहा है। इसके तहत बाबा के नाम से यू-ट्यूब चैनल बनाया जाएगा, जिस पर दिनभर बाबा रामदेव के मंदिर में होने वाली आरती का सीधा प्रसारण होगा, ताकि देश-दुनिया में मौजूद श्रद्धालु घर बैठे आरती का हिस्सा बन सकें।

Posted By: Shailendra Kumar