जयपुर। राजस्थान में एक फरवरी से बिजली के दामों में विभिन्न श्रेणियों में 11 प्रतिशत की बढ़ोतरी कर दी गई है। राजस्थान विद्युत विनियामक आयोग ने बिजली कम्पनियों के प्रस्ताव की समीक्षा के बाद वर्ष 2019-20 के लिए बिजली के नई दरों को मंजूरी दे दी। बीपीएल, छोटे उपभोक्ता, किसानों और उद्योगों के लिए दाम नहीं बढ़े हैंं, लेकिन मध्यमवर्गीय परिवारों के लिए बिजली का बिल बढ़ गया है।

राजस्थान में बिजली वितरण कम्पनियों ने वर्ष 2019-20 के बिजली की नई दरों के लिए राजस्थान विद्युत विनियामक आयोग में याचिका दायर की थी। इसे आयोग ने मंजूर कर लिया है। आयोग ने आयोग ने उद्योगों को कुछ राहत दी है और एक मेगावाट से अधिक बिजली डिमांंड और 50 फीसदी से अधिक लोड फैक्टर वाली इण्डिस्टी की दर में एक रुपए प्रति यूनिट की कमी की गई है। सभी सभी बड़े उद्योगों के लिए रात के वक्त बिजली का उपभोग करने पर 15 प्रतिशत सस्ती बिजली देने का प्रावधान किया गया है। इलेक्ट्रिक वाहनों के बढ़ते इस्तेमाल को देखते हुए अलग से टेरिफ का प्रावधान करते हुए 6 रुपए प्रति यूनिट में मिलेगी बिजली देने का निर्णय किया गया है।

यह है प्रमुख दरेंं

- बीपीएल और 50 यूनिट से कम बिजली उपभोग करने वाले छोटे उपभोक्ताओं की बिजली दर यथावत

- आम घरेलू उपभोक्ताओं के उपभोग के हिसाब से बढ़ाए गए हैं। स्थाई शुल्क और यूनिट की दर। यह बढ़ोतरी 50 पैसे से लेकर 95 पैसे प्रति यूूनिट तक है।

- बिल की तारीख से सात दिन पहले भुगतान पर 0.15 फीसदी की छूट, दस दिन पहले भुगतान करने पर 0.35 फीसदी भुगतान की छूट

- 14 लाख रुपए कृषि उपभोक्ता के लिए दाम बढ़ाए गए, लेकिन यह बढोतरी सरकार वहन करेगी।

Posted By: Navodit Saktawat

fantasy cricket
fantasy cricket