जयपुर। एक तरफ जहां राम रहीम के समर्थकों ने उनकी गिरफ्तारी के बाद हिंसा का सहारा लिया था, वहीं अलवर के बाबा फलाहारी के शिष्य अब उनसे दूरी बना रहे हैं। दुष्कर्म के आरोप में जेल भेजे गए फलाहारी बाबा के 135 शिष्यों ने उसके बहिष्कार का फैसला किया है।

अलवर में बाबा फलाहारी को पकड़ने के लिए जब पुलिस पहुंची थी तो यहां भी कानून व्यवस्था बिगड़ने का डर था और पुलिस ने सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए थे, लेकिन अलवर में वैसा कुछ भी सामने नहीं आया। भीड़ तो जमा हुई, लेकिन इसने बाबा के खिलाफ ही नारेबाजी की। कार्यक्रम आयोजित कर 135 भक्तों ने बाबा का बहिष्कार करने का ऐलान किया। यह कार्यक्रम अलवर के शिवमंदिर में हुआ।

मिली जानकारी के अनुसार, लादिया में काफी संख्या में फलाहारी बाबा के अनुयायी हैं। इनमें से 135 अनुयायी बाबा का तिरस्कार कर गुरु-शिष्य बंधन से मुक्त हो गए। इस दौरान इन्होंने हाथ में जल लेकर संकल्प लिया। इन भक्तों का कहना था कि हमने जिसे गुरु माना, उसकी हकीकत सामने आने के बाद अब इस बंधन से मुक्ति जरूरी थी। यदि शिष्य गलत कार्य करता है तो गुरु को भोगना पड़ता है। यदि गुरु गलत कार्य करता है तो शिष्य को भोगना पड़ता है। फिलहाल आरोपी बाबा न्यायिक हिरासत में है।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020