Ganeshotsav 2020 Special: पूरे देश में गणेश चतुर्थी की धूम है। देश के गणेश मंदिरों से आरती और पूजा की तस्वीरें सामने आ रही हैं। ऐसी ही एक रोचक कहानी राजस्थान में उदयपुर के बोहरा गणेश मंदिर की है। यहां भक्त भगवान से रुपए उधार लेते हैं और अपना काम पूरा होन के बाद ब्याज के साथ रुपए लौटाते हैं। लोग बेटी की शादी के लिए उधार लेते हैं। वहीं यहां टेन्ट का सामान भी मिलता है, जिसके लिए कोई शुल्क नहीं लिया जाता है। हालांकि, उधार देने की परंपरा अब सांकेतिक रूप में निभाई जाती है। करीब अस्सी साल पहले यहां से उधार लेकर गए एक व्यक्ति ने रुपये नहीं लौटाए और इसके बाद उधार देने की परंपरा थम गई। अब मांगी गई पूरी धनराशि देने के बजाय सांकेतिक रूप में कुछ धन दिया जाता है। पढ़िए उदयपुर से सुभाष शर्मा की रिपोर्ट -

उदयपुर संभाग के ज्यादातर लोग भगवान बोहरा गणेश को न्योता देने के बाद ही किसी शुभ कार्य की शुरुआत करते हैं। बोहरा गणेश मंदिर में एक साथ दो प्रतिमाएं विराजित हैं। मुख्य प्रतिमा सामने की ओर देखते हुए नृत्य मुद्रा में है, जबकि दूसरी छोटी प्रतिमा बांयी ओर विराजित है। मान्यता है कि छोटी प्रतिमा भगवान गणेश के लेन-देन का ब्योरा रखती है।

बेटी के विवाह से पूर्व लेते हैं रुपए

अधिकांश लोग बेटी के शादी से पूर्व यहां से रुपए उधार ले जाते हैं। शादी होने के बाद यहां भगवान बोहरा गणेश का भोग लगाते हैं। कोरोना काल की वजह से इन दिनों मंदिर में लोगों को प्रवेश नहीं दिया जा रहा है। हालांकि, यहां ऐसा कोई दिन नहीं, जब यहां भोज नहीं होता है। परंपरा के अनुसार यहां भोज का आयोजन करने वालों को टेंट तथा बर्तनों का खर्चा नहीं देना होता है। इतिहास के अनुसार बोहरा गणेश मंदिर का निर्माण महाराणा मोखलसिंह ने कराया था।

Posted By: Arvind Dubey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020