जोधपुर, 16 अगस्त। जोधपुर संभाग के जालौर जिले के गुजरात से सटी सीमा पर रानीवाड़ा इलाके में गुजरात की क्राइम ब्रांच टीम ने अंतरराज्यीय वाहन चोर गिरोह के तीन सदस्यों को पकड़ा है। गुजरात से चुराई गई मोटरसाइकिल राजस्थान के जालोर क्षेत्र में सस्ते दामों में बेची जाती है रही है। मिली जानकारी के आधार पर गुजरात के गांधीनगर क्राइम ब्रांच टीम ने दबिश देकर जालौर से तीन लोगों को पकड़ा। उनकी निशानदेही पर गुजरात से चुराई गई 26 मोटरसाइकिलें बरामद की गई हैं। तीनों बदमाशों को क्राइम ब्रांच की टीम गुजरात ले गई है। मिली जानकारी के अनुसार अंतरराज्यीय वाहन चोर गिराह के सरगना प्रवीण भील, हरीश भील और अमृत भील को गिरफ्तार किया गया है। तीनों आरोपी जालोर के बड़गांव रानीवाड़ा थाना इलाके के रहने वाले है। गांधीनगर की क्राइम ब्रांच टीम ने स्थानीय पुलिस की मदद से बड़गांव में तीनों आरोपियों के घर पर दबिश दी।

क्राइम ब्रांच टीम के अनुसार वाहन चोर गिरोह का सरगना प्रवीण भील है, जिसके खिलाफ गुजरात में वाहन चोरी के 15 से अधिक मामले दर्ज है। गिरोह के बदमाश ट्रेन-बस के माध्यम से रानीवाड़ा से करीब 20 किमी दूर बार्डर पार कर गुजरात पहुंचते थे। मजदूरी करने के बहाने गुजरात जाकर अहमदाबाद, पाटन, मेहसाना व बनासकांठा के भीड़-भाड़ वाले एरिया से बाइक चोरी की वारदात को अंजाम देते फिर जालौर लौट आते थे। यहां अपने घर और अन्य ठिकानों में चोरी की बाइक को छुपा देते। गिरोह का सरगना प्रवीण भील ग्राहक तैयार कर सस्ती कीमत में ग्रामीणों को बेच देता था। बताया जा रहा है कि यह गिरोह अब तक दर्जनों बाइक गुजरात से चुराकर जालौर के विभिन्न गांवों में बेच चुका है।

गुजरात क्राइम ब्रांच की टीम इन तीनों आरोपियों को अपने साथ ले गई है, जहां उनसे और खुलासे होने की उम्मीद है। इस कार्रवाई के बाद रानीवाड़ा क्षेत्र की पुलिस भी सक्रिय हुई है। गुजरात का थराद क्षेत्र राजस्थान के जालौर जिले के रानीवाड़ा सांचौर इलाके से जुड़ा हुआ है। इस बॉर्डर पर दुपहिया वाहनों से भी आवागमन होता है। इसी का फायदा उठाकर यह वाहन चोर गिरोह गुजरात से दुपहिया वाहन चुराकर राजस्थान में प्रवेश करते हैं और सस्ते दामों में चोरी की गाड़ियों को बेच देते हैं।

Posted By: Shailendra Kumar

  • Font Size
  • Close