जोधपुर, 1 सितंबर। जोधपुर के अतिरिक्त मुख्य महानगर मजिस्ट्रेट ने बिहार के बोधगया और पटना में सीरियल बम ब्लास्ट के मामले में इंडियन मुजाहिद्दीन के दशहतगर्दों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया है। वर्ष 2014 से जुड़े इस मामले में आई एम मॉड्यूल के आतंकियों को जोधपुर से भी पकड़ा गया था, जिनकी सुनवाई यहां चल रही है। मामले की सुनवाई के दौरान एटीएस ने कोर्ट में प्रार्थनापत्र पेश कर आतंकियों के खिलाफ फिर से गिरफ्तारी वारंट जारी करने का आग्रह किया था। इसी के मद्देनजर इंडियन मुजाहिदीन के तीन आतंकियों इकबाल भटकल उर्फ मोहम्मद इस्माइल, रियाज भटकल और मोहम्मद रियाज उर्फ इस्माइल भंडारी के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया है।

वर्ष 2014 में देश के अलग-अलग हिस्सों में हुए बम धमाकों के मामले में एटीएस और पुलिस की साझा कारवाई में जोधपुर से कई गिरफ्तारियां हुई थी। जयपुर और जोधपुर से 12 लोगों को पकड़ा गया था। इन पर देशभर में विस्फोट करने तथा योजना बनाने को लेकर मामला कोर्ट में विचाराधीन है, और जोधपुर कोर्ट में उनकी सुनवाई चल रही है। जोधपुर में सभी आरोपियों को कोर्ट के द्वारा चार्ज सुना दिए गए थे, जिन्हें सभी ने नकार दिया था। इसके अलावा जोधपुर से पकड़े गए लोगों को आतंकी कहे जाने पर भी आपत्ति दर्ज कराई गई थी।

वर्ष 2014 से जुडे़ मामले का कनेक्शन

बोधगया और पटना के अलावा देश के अन्य हिस्सों में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों के मामले में जोधपुर के प्रतापनगर थाना पुलिस के साथ संयुक्त कार्रवाई करते हुए एटीएस की टीम ने 23 मार्च 2014 को जोधपुर के कुछ हिस्सों में अलग-अलग टीमें बनाकर दबिश देकर दहशतगर्दों को पकड़ा था। आतंकियों की मदद करने वाले एक शख्स आदिल को जयपुर से भी गिरफ्त में ले लिया गया था।

नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (एनआईए) के हत्थे चढ़े मुजाहिद्दीन गिरोह के कर्नाटक मूल के निवासी यासिन भटकल और अरशदुउल्लाह ने पूछताछ में ये इशारा किया था कि उनका ठिकाना राजस्थान में है। इसके बाद सुरक्षा एजेंसियों ने तहकीकात का रुख राजस्थान की तरफ कर दिया, जिससे जयपुर और जोधपुर में आतंकियों के नेटवर्क का भंडाफोड़ हुआ और मामले में 12 गिरफ्तारियां भी हुई। पुलिस की दबिश में आतंकियों के पास से विस्फोटक, मोबाइल ,लैपटॉप ,डेटोनेटर, टाइमर , फ्यूज और देशी बम और बम बनाने का सामान बरामद किया था।

Posted By: Shailendra Kumar