जयपुर। उत्तर पश्चिम रेलवे के बीकानेर डिवीजन में ऐलनाबाद रेलवे स्टेशन देश का 3000वां स्टेशन है जहां पब्लिक वाई-फाई है। 56 और स्टेशनों को रेलवे द्वारा फ्री इंटरनेट सर्विसेस से जोड़ने के बाद रविवार शाम को भारत में वाई-फाई से लैस रेलवे स्टेशनों की संख्या 3,010 तक पहुंच गई।

केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट किया, 'वाई-फाई वाले रेलवे स्टेशनों की संख्या ने 3,000 तक पहुंच गई है क्योंकि रविवार को अन्य 56 स्टेशन जुड़े थे। फ्री वाई-फाई यात्रियों को यात्रा के दौरान भी अपने प्रियजनों से जुड़े रहने में मदद कर रहा है।'

रेलटेल की एक रिटेल ब्रॉडबैंड पहल, रेलवायर के तहत यात्रियों को मुफ्त वाई-फाई सेवा दी जा रही है। रेलटेल रेल मंत्रालय के अधीन एक सार्वजनिक उपक्रम है।

रेलटेल के सीएमडी पुनीत चावला ने कहा कि रेलवे स्टेशनों को डिजिटल इन्क्लूजन के लिए एक प्लेटफॉर्म में बदलने की दृष्टि से रेलटेल ने स्टेशनों पर मुफ्त पब्लिक वाई-फाई सेवा प्रदान करना शुरू किया। पहले चरण में देशभर के 1,600 स्टेशनों पर वाई-फाई को लाइव किया गया था। रेलटेल अब देश भर के शेष स्टेशनों पर वाई-फाई उपलब्ध कराने के लिए टाटा ट्रस्ट के साथ हो गया है। केवल 15 दिन के अंदर पूरे भारत में 1000 स्टेशनों को वाई-फाई के साथ सक्षम किया गया है।

देश की एक बड़ी आबादी के इंटरनेट से जुड़ने के बाद, सरकार ने सभी बड़े और छोटे रेलवे स्टेशनों को मुफ्त वाई-फाई प्रदान करने का निर्णय लिया था। अधिकारियों ने कहा कि कई ग्रामीण और कम जनसंख्या घनत्व वाले क्षेत्रों में इंटरनेट का उपयोग सुनिश्चित करने के लिए विशेष ध्यान रखा गया है।

मई 2019 में, पूरे भारत में कुल उपयोगकर्ता लॉगिन 1,600 स्टेशंस पर 2.35 करोड़ थे और वाई-फाई के लिए कुल यूनिक यूजर्स 1.19 करोड़ थे जो 8781.30 टीबी डेटा की खपत करते थे। यह भी देखा गया कि कोलकाता, दिल्ली मुंबई जैसे टियर 1 शहरों में स्टेशनों ने अपने टियर 2 समकक्षों की तुलना में अधिक यूजर्स लॉगिन और डेटा की खपत दर्ज की। अकेले हावड़ा स्टेशन ने एक महीने में 4.9 लाख यूजर्स लॉगिन किए।

Posted By: Sonal Sharma