जयपुर। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि इस बार लोकसभा का सत्र कई मायानों में एतिहासिक रहा। इस दौरान आजादी के बाद पहली बार सबसे अधिक 35 विधेयक पारित किए गए।

277 घंटे सदन की कार्यवाही चली। सोमवार को बीकानेर यात्रा के दौरान पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि देश की जनता चाहती है कि संसद सुचारू रूप से चले।

सदन के संचालन में करोड़ों रुपये खर्च होते हैं, ऐसे में सभी को अपनी जिम्मेदारी समझनी चाहिए। उन्होंने कहा कि संसद का नया भवन बनाया जाना समय की जरूरत है।

पेपरलैस वर्क भी आज के समय में आवश्यक है। उन्होंने कहा कि आगामी दिनों में वह विधानसभा अध्यक्षों के साथ एक बैठक करेंगे, जिसमें राज्यों की विधानसभाओं में अधिक से अधिक काम को लेकर चर्चा की जाएगी।

बिरला ने यहां राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के क्षेत्रीय प्रचारक दुर्गादास निवास पर जाकर उनके पिता के निधन पर शोक जताया।