जयपुर। राजस्थान में पुलिस ने 18 ऐसे माफिया चिन्हित किए हैंं जो राजस्थान में संगठित अपराध को बढ़ावा दे रहे हैंं। इन माफियाओं से निपटने की कार्ययोजना बनाने की जिम्मेदारी फील्ड में तैनात 18 अधिकारियों को दी गई है। ये अधिकारी जो कार्ययोजना बनाएंगे, उसे सम्बन्धित माफिया के खात्मे के लिए पूरे राज्य में लागू किया जाएगा।

दरअसल राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पिछले दिनों गृह विभाग और पुलिस अधिकारियों की बैठक में यह निर्देश दिए थे कि राजस्थान में अपराध कम करने के लिए संगठित अपराधो पर नियंत्रण किया जाए और जितनी तरह के माफिया राजस्थान में सक्रिय है, उन्हें चिन्हित कर कार्रवाई की जाए।

इसी को ध्यान में रखते हुए पुलिस महानिदेशक भूपेन्द्र सिंह ने एक दर्जन से अधिक IPS अधिकारियों सहित फील्ड में तैनात 18 अधिकारियों को अलग अलग तरह के माफियाओं पर नियंत्रण के लिए कार्ययोजना बनाने की जिम्मेदारी दी है। यह सभी अधिकारी अगले 1 महीने तक सभी तरह की जानकारी और डाटा जुटाकर कार्ययोजना बनाएंगे और उनके द्वारा दी गई कार्ययोजना को राज्य के सभी जिलों में लागू किया जाएगा।

ये अधिकारी और माफिया किए चिन्हित

1-मादक पदार्थ-हेंमत शर्मा, एसपी गंगानगर

2-अवैध शराब तस्करी-विकास शर्मा, एसपी सीआईडी-सीबी जयपुर

3-अवैध हथियारों की तस्करी-दीपक भार्गव, एसपी कोटा शहर

4-अवैध खनन माफिया-केसर सिंह शेखावत, एसपी बांसवाड़ा

5-मानव तस्करी-जय यादव, एसपी डूंगरपुर

6-मिलावट व नकली पदार्थोंं संबंधी अपराध-शंकरदत्त शर्मा एसपी जयपुर ग्रामीण

7-वाहन चोरी-राहुल प्रकाश, उपायुक्त पुलिस यातायात जयपुर

8-जाली मुद्रा की तस्करी-राजन दुष्यन्त, एसपी कोटा ग्रामीण

9-भर्ती कोचिंग,नकल माफिया- गजेन्द्र सिंह जोधा, एएसपी एसओजी अजमेर

10-चिकित्सा क्षेत्र में संगठित माफिया-रवि सबरवाल, एसपी बांरा

11-साईबर माफिया-अभिजीत सिंह द्धितीय एसओजी जयपुर

12-सोशल मीडिया अपराध-अभिजीत सिंह द्धितीय एसओजी जयपुर

13-स्टेट हाइवे, एनएच हाइवे पर अवैध व्यावसायिक गतिविधिया-शंकरदत्त शर्मा एसपी जयपुर ग्रामीण

14-फर्जी बीमा माफिया-योगेश यादव, उपायुक्त पुलिय, जयपुर आयुक्तालय

15-भू माफिया-प्रीति जैन, उपायुक्त पुलिस, जयपुर मेट्रो

16-गौ तस्करी व पशुधन चोरी माफिया-पारिस अनिल देशमुख एसपी अलवर

17-ब्लैकमेलिंग माफिया-करण शर्मा, एएसपी एएसओजी जयपुर

18-सरकारी जमीन पर अतिक्रमण माफिया-मामन सिंह एसपी जेडीए जयपुर

Posted By: Navodit Saktawat

fantasy cricket
fantasy cricket