Rajashan Govt. Crisis Update: क्या राजस्थान का सियासी संकट सुलह की तरफ बढ़ रहा है? सूबे के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने तो शनिवार को यही संकेत दिए। अशोक गहलोत ने बड़ा बयान देते हुए कहा, अगर पार्टी आलाकमान बागियों को माफ कर दे तो वह उन्हें गले लगाने को तैयार हैं। माना जा रहा है कि सचिन पायलट के बाद अब ज्यादा विकल्प नहीं बचे हैं। ऐसे में सुलह संभव है। हालांकि सचिन पायलट गुट की ओर से अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। वहीं, अशोक गहलोत ने बसपा सुप्रीमो मायावती पर भी निशाना साधा।

बकौल अशोक गहलोत, मायावती पर सीबीआई, ईडी और आयकर विभाग का दबाव है, इसलिए वह हमारी सरकार को घेरने में जुटी हैं और इसीलिए सबक सिखाने से बातें बोल रही हैं। बसपा के छह विधायकों ने पार्टी विधायक दल का विधिवत नियमों के अनुसार कांग्रेस में विलय किया, जिसे स्पीकर ने मंजूरी दी।

केंद्र सरकार पर लगाए गंभीर आरोप

मुख्यमंत्र ने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को राजस्थान में चल रहा तमाशा रोकना चाहिए। सरकार गिराने के प्रयास हो रहे हैं, केंद्रीय गृह मंत्रालय इसी काम में लगा है। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल भी इस काम में लगे हैं। यहां हॉर्स ट्रेडिग के रेट बढ़ गए हैं। कुछ नेता छुपे रुस्तम की तरह काम कर रहे हैं।

गहलोत खेमे के विधायकों की 700 पुलिस अधिकारी कर रहे चौकीदारी

राजस्थान के सियासी संकट के बीच अशोक गहलोत खेमे के विधायकों को जैसलमेर के जिस सूर्यगढ़ होटल में रखा गया है, उसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी पुलिस के 700 वरिष्ठ अधिकारियों एवं जवानों को सौंपी गई है। इनमें 7 आईपीएस व 15 राज्य पुलिस सेवा के अधिकारियों के साथ ही सीआईडी के 35 अफसर व जवान जयपुर से भेजे गए हैं। इनमें दो आईपीएस और 13 राज्य पुलिस सेवा के अधिकारियों को जयपुर से भेजा गया है।

200 सदस्यीय विधानसभा में बहुमत के लिए 101 विधायकों की जरूरत है। गहलोत 102 विधायकों के साथ होने का दावा कर रहे हैं। लेकिन, सच्चाई यह है कि उनके पास 100 विधायक ही हैं। माकपा के दोनों विधायक पहले साथ थे, लेकिन अब तटस्थ हैं। ऐसे में गहलोत बहुमत के किनारे पर खड़े हैं। एक भी विधायक के पाला बदलने का मतलब सरकार का गिरना तय है।

Posted By: Arvind Dubey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Raksha Bandhan 2020
Raksha Bandhan 2020