जयपुर। राजस्थान में सरकारी योजनाओं पर प्रदेश के 45 छात्र तीन से छह माह की इंटर्नशिप करेंगे। मंगलवार को बिडला सभागार में विशेषज्ञ वैज्ञानिक समिति के साथ प्रदेश के विभिन्न जिलों से आए छात्रों का इसके लिए साक्षात्कार किया गया। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग की सचिप मुग्धा सिन्हा ने बताया कि इन्टर्नशिप कार्यक्रम के तहत विभाग के द्वारा राज्य के 45 विद्यार्थियों का 3 से 6 माह तक इन्टर्नशिप के लिए चयन किया जा रहा है।

ये विद्यार्थी विभिन्न जिलों से शिक्षा ग्रहण कर रहे है। चयनित विद्यार्थी सरकार की योजनाओं के क्रियान्वयन, आमजन को होने वाले फायदे एवं उनमें बेहतरी के लिए सुझावों सहित अन्य बिन्दुओं पर कार्य करेंगे। सिन्हा ने कहा कि इन्टर्नशिप के लिए जयपुर, जोधपुर, बीकानेर, कोटा सहित अन्य जिलों के करीब 100 विद्यार्थियों ने

आवेदन किया था। जिसमें से बायो टेक्नोलॉजी, स्टार्टअप, रिमोट सेन्सिंग, आर्टिफिशियल इन्टेलीजेन्स, नेनो टेक्नोलॉजी, कृषि, पर्यावरण एवं क्लाइमेंट चेंज बौद्धिक सम्पदा का अधिकार, इन्टरनेंट ऑफथिग्स जैसे प्रोजेक्ट के माध्यम से विद्यार्थी सरकारी योजनाओं में इन्टर्नशिप करेंगे।

उन्होंने बताया कि इस प्लेटफार्म के माध्यम से छात्र-छात्राओं को सरकार की कार्यप्रणाली के बारे में पता चलेगा तथा सरकार के विजन एवं किए जा रहे कार्यों के बारे में अवगत होंगे।

उन्होंने बताया कि इन्टर्नशिप पूरी होने पर विभाग की ओर से चयनित विद्यार्थियों को प्रमाण-पत्र भी प्रदान किया जाएगा ताकि जब भी विद्यार्थी शिक्षा पूरी कर नौकरी के लिए आवेदन करेगा तो उसमें सरकार के साथ कार्य करने का अनुभव उनके लिए महत्वपूर्ण साबित होगा। इस कार्यक्रम के माध्यम से युवा वैज्ञानिकों को आंत्र प्रेनियोर बन पाएंगे।

सरकार की दिशा में कार्य करने का मौका मिलेगा। संसाधनों एवं डेटा एनालाइसिस में समझ विकसित होगी। उन्होंने बताया कि इन्टर्नशिप की रिपोर्ट के द्वारा विभिन्न योजनाओं की समीक्षा भी प्राप्त होगी। जिससे भविष्य में नीति निर्धारण में इसका उपयोग किया जा सकेगा।

Posted By: Navodit Saktawat