उदयपुर। राजस्थान के बांसवाड़ा में गर्भवती से एक ही रात में 11 बार सामूहिक दुष्कर्म के मामले में हैरान करने वाला खुलासा हुआ है। पीड़िता उस रात अपने प्रेमी के साथ गांव लौट रही थी। तभी कुछ लोगों ने रोक और दरिंदगी को अंजाम दिया। एक रात में 11 बार रेप होने से महिला का गर्भ में पल रहा डेढ़ माह का भ्रूण नष्ट हो गया। आत्मग्लानि में प्रेमी ने आत्महत्या कर ली। पुलिस इसकी जांच करती-करती इस बड़े कांड तक पहुंची। पढ़िए वारदात वाली रात का सिलसिलेवार विवरण -

- वारदात 13 जुलाई की है। पीड़ित अपनी अविवाहित प्रेमिका के साथ रात में बाइक पर गांव लौट रहा था। रास्ते में मामूली से विवाद के बाद तीन युवकों ने उसको रोका तथा तलवार से हमला कर दिया। हमले और मारपीट से वह बेहोश हो गया।

- आरोपित प्रेमिका को उठा ले गए। पहले उदपुरा के बस स्टैंड के सामने सुनसान जगह पर दुष्कर्म किया। वहां से फिर उसे उठाकर निचला घंटाला ले गए। वहां आरोपितों ने अपने दो अन्य साथियों को भी बुला लिया।

- आरोपितों ने शराब पीकर हैवानियत की सारी हदें पार करते हुए पीड़िता के साथ कई बार दुष्कर्म किया। सुबह होने के पहले आरोपित विकास, विजय और जीतेंद्र पीड़िता को उसके गांव छोड़ आए।

- पीड़िता के प्रेमी को जब होश आया तो बदनामी और सामाजिक दंड के डर से उसने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। घबराई पीड़िता ने भी वारदात की जानकारी किसी को नहीं दी। परिजन ने पीड़िता का इलाज पहले बांसवाड़ा में करवाया फिर तबीयत बिगड़ने पर उसे उदयपुर के अस्पताल भी लेकर गए। पीड़िता को अब स्थिति सुधरने पर छुट्टी दे दी गई है।

- इसी बीच पुलिस आत्महत्या करने वाले प्रेमी के मोबाइल की कॉल डिटेल के आधार पर पीड़िता तक पहुंच गई। यहां उसे वारदात की जानकारी हुई। शुरुआती पूछताछ में पीड़िता ने तीन लोगों पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था।

- पीड़िता से मिली जानकारी के आधार पर पुलिस ने बांसवाड़ा के निचला घंटाला निवासी सुनील चरपोटा, उसके दोस्त विकास, नरेश गुर्जर, विजय और जितेंद्र चरपोटा को गिरफ्तार कर लिया। उनके खिलाफ दुष्कर्म के अलावा अपहरण, जानलेवा हमले तथा प्रेमी को आत्महत्या के लिए मजबूर करने का मामला दर्ज किया गया है।

Posted By: Arvind Dubey