मनीष गोधा, जयपुर। राजस्‍थान में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे लाखों युवाओं के लिए अब राजस्थान सरकार के काॅलेज शिक्षा निदेशालय ने यूटयूब चैनल शुरू कर दिया है। इस चैनल के लिए निदेशालय करीब 500 घंटे के लेक्चर्स तैयार करवा रहा है। इनमें से ढाई सौ घंटे के लेक्चर्स यूटयूब चैनल पर उपलब्ध कराया जा चुके हैंं।राजस्थान में सरकार की ओर से सभी सरकारी काॅलेजों में प्रतियोगिता दक्षता कार्यक्रम चलाया जाता है। इसके तहत काॅलेजों में अलावा चार घंटे की कोचिंग कक्षाएं भी लगती हैंं। इन कोचिंग कक्षाओं में राजस्थान प्रशासनिक सेवा के सिलेबस केअनुसार हिन्दी, अंग्रेजी, रीजनिंग, सामान्य गणित, सामान्य ज्ञान, सामान्य विज्ञान, राजनीति शास्त्र, राजस्थान का इतिहास, भारत का इतिहास, भूगोल आदि विषयों की तैयारी कराई जाती है।

राजस्‍थान प्रशासनिक सेवा की प्रतियोगी परीक्षा का सिलेबस ऐसा है कि इससे राजस्थान में शिक्षक भर्ती, पुलिस भर्ती व अन्य विभागीय परीक्षाओं आदि की तैयारी हो जाती है। काॅलेजों में चल रही कोचिंग कक्षाओं मे वहीं के व्याख्याता पढाते है, लेकिन प्रतियोगिता परीक्षाओं की सफलता के लिए कोचिंग संस्थानों में विशेष तैयारी कराई जातीहै।

इसी को देखते हुए काॅलेज शिक्षा निदेशालय ने कोचिंग संस्थानों से जुडे विशेषज्ञ शिक्षकों के लेक्चर्स रिकार्ड कराए। इस प्रतियोगिता दक्षता कार्यक्रम के प्रभारी डा. सीबी जैन ने बताया कि हमने उन विशेषज्ञों के लेक्चर्स तैयार कराए है जो बडे कोचिंग से जुडे है और लम्बे समय से कोचिंग दे रहे है, लेकिन इन रिकार्डिग्स को काॅलेजों तक भेजने में दिक्कत आ रही थी, क्योंकि सामग्री काफी ज्यादा थी।

ऐसे में हमें यूटयूब चैनल का उपाय सूझा और हमने सीसीई लेक्चर्स के नाम से एक यूटयूब चेनल बना कर यह सारी रिकार्डिग्स उस पर अपलोड कर दी है। अब काॅलेज छात्र-छात्राएं काॅलज में चल रही कोचिंग कक्षाओं के अलावा जब भी समय मिले इस चैनल पर जा कर अपनी इच्छा से लेक्चर सुन कर तैयारी कर सकते है।

काॅलेज शिक्षा निदेशक प्रदीप बोरड का कहना है कि अब तक हम अपने काॅलेजों के छात्र-छात्राओ को ही कोचिंग दे रहे थे। अब ये लेक्चर्स उन सभी युवाओ के लिए उपलब्ध हो गएहै, जो प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे है। यही कारण है कि चैनल लाॅंच करने के दो दिन में ही हमारे करीब दो हजार सब्सक्राइबर हो गए है।

उन्होंने बताया कि भारतीय संविधान पर उनके खुद के भी दो-तीन लैक्चर्स इसमेंहै। बोरड ने कहा कि हमारी कोशिश है कि प्रतियोगी परीक्षाओ की तैयारी कर रहे युवाओ को अच्छी सामग्री मिले, इसलिए गुणवत्ता पर विशेष फोकस है और प्रतियोगी परीक्षाअें से जुडा लगभग हर टाॅपिक हमने इसमें लेने की कोशिश की हैं।

Posted By: Navodit Saktawat