जयपुर। Rajasthan Local Body Election Results 2019 Live: राजस्थान में विधानसभा चुनाव में हार के बाद सत्ता गंवाने वाली भाजपा को निकाय चुनाव में भी बड़ा झटका लगता नजर आ रहा है। भरतपुर, फलौदी, कैथून, बीकानेर, माउंटआबू, डीडवाना, कोटा, झुंझनू की ज्यादातर सीटों पर कांग्रेस उम्मीदवार जीत हासिल कर चुके हैं। माउंट आबू में भी भाजपा का लगभग सूपड़ा साफ हो गया है। यहां 25 सीटों में से 18 सीटों पर कांग्रेस ने जीता हासिल कर ली है। ऐसे में कांग्रेस का बोर्ड बनना तय है। अभी तक घोषित परिणामों में 223 सीटों पर भाजपा और 299 सीटों पर कांग्रेस ने जीत हासिल की है। वहीं 111 सीटों पर निर्दलीय, चार पर बसपा और दो पर माकपा ने जीत दर्ज की है। हालांकि अजमेर और पुष्कर में भाजपा द्वारा अच्छा प्रदर्शन करने की जानकारी भी सामने आ रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सूरतगढ़ और भरतपुर में भी कांग्रेस के अधिकतम उम्मीदवार जीत गए हैं। ऐसे में इन जगहों पर भी कांग्रेस का बोर्ड बनना लगभग तय माना जा रहा है। राजस्थान निकाय चुनाव से पल-पल के लाइव अपडेट्स जानें।

- अब तक घोषित हुए परिणामों में 504 सीटों पर कांग्रेस ने जीत हासिल कर ली है। वहीं भाजपा 407 सीटों पर जीती है। बसपा 12 सीटों और सीपीएम 2 सीटों पर जीती है। 204 निर्दलीयों ने भी अब तक जीत हासिल कर ली है।

- बांसवाड़ा नगर परिषद में भी कांग्रेस का बोर्ड बनना सुनिश्चित हो गया है। यहां 37 सीटों पर कांग्रेस ने जीत हासिल की है। वहीं 19 सीटों पर भाजपा जीती है। 3 सीटें निर्दलीय के खाते में गईं है। यहां जैनेन्द्र त्रिवेदी का सभापति बनना भी तय हुआ है।

- भिवाड़ी नगर परिषद चुनाव का भी फाइनल रिजल्ट आ गया है। यहां कांग्रेस और भाजपा में बराबरी का मुकाबला रहा। दोनों दलों के 23-23 पार्षद चुनकर आए हैं। वहीं 12 निर्दलीयों ने भी जीत हासिल की है। यह का बोर्ड बनाने में निर्दलीय अहम भूमिका में आ गए हैं।

-

- सीकर में तीनों निकायों के परिणाम घोषित हुए। सीकर नगर परिषद में 65 वार्डों के परिणाम आए, यहां कांग्रेस का बोर्ड बनना तय हो गया है। 37 वार्डों पर कांग्रेस और 18 वार्डों पर भाजपा ने जीत हासिल की है। 9 वार्डों में निर्दलीय विजय घोषित हुए हैं। 1 वार्ड में माकपा प्रत्याशी विजयी।

- खाटूश्यामजी नगर पालिका चुनाव में बीजेपी को मिला बहुमत। यहां बीजेपी का बोर्ड बनना तय। यहां बीजेपी के 11 प्रत्याशी और कांग्रेस के 3 प्रत्याशी जीतें हैं। वहीं 6 निर्दलीयों ने जीत हासिल की है।

- नीमकाथाना नगर पालिका में कांग्रेस ने 18 और भाजपा ने 15 सीटों पर जीत हासिल की। यहां कांटे का मुकाबला था। हालांकि यहां भी कांग्रेस का बोर्ड बनना लगभग तय हो गया है।

- रावतभाटा नगर पालिका में 40 सीटों में से 26 पर कांग्रेस और 11 पर भाजपा काबिज हुई है। तीन निर्दलीयों ने भी जीत हासिल की है।

- बीकानेर में भाजपा को 38 और कांग्रेस को 30 सीटें मिली हैं। यहां से 11 निर्दलीय जीते हैं।

- टोंक में 60 वार्डो के परिणाम घोषित हुए, यहां कांग्रेस को 27 सीटे, बीजेपी को 23 सीटे मिली। 10 सीटों पर निर्दलीय प्रत्याशी जीते।

- सादुलपुर में वार्ड नंबर 22 में जीत के बाद पथराव होने का मामला सामने आया है। इसमें एक युवक गंभीर घायल हो गया है। सूचना के बाद मौके पर पुलिस पहुंच गई है।

- निकाय चुनाव में कांग्रेस अब तक 16 निकायों में जीत हासिल कर चुकी है। 4 निकाय में भाजपा ने जीत हासिल की है, वहीं कई निकायों में निर्दलीयों के हाथों में चाबी है।

- चित्तौड़गढ़ नगर परिषद में कांग्रेस का बोर्ड बना। सिरोही नगर, माउंट आबू, निंबाहेडा में भी कांग्रेस ने अपना दम दिखाया है।

- तीन बडे नगर निगमों की बात करें तो उदयपुर में भाजपा और बीकानेर में भाजपा को और भरतपुर में कांग्रेस आगे नजर आ रही है।

- पुष्कर और ब्यावर में भाजपा को बहुमत मिला है, वहीं कोटा कैथून और सांगोद में कांग्रेस को बहुमत हासिल हुआ है।

- उदयपुर नगर निगम चुनाव में नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया के रिश्तेदार अतुल चंडालिया और कांग्रेस की पूर्व मंत्री गिरिजा व्यास की भतीजा बहू हिमांशी शर्मा को हार का सामना करना पड़ा है।

- बांसवाड़ा के वार्ड नंबर 2 से भाजपा के धनेश राववत जीते, वहीं वार्ड 3 से कांग्रेस के गोविंद गुर्जर ने जीत हासिल की है। वार्ड 5 और वार्ड 6 से भी कांग्रेस प्रत्याशी सुरेश कलाल और प्रह्लाद सिंह राव जीत गए हैं।

राजस्थान के 49 नगर निकाय के लिए 16 नवंबर (शनिवार) को वोटिंग हुई थी। 49 में से 28 नगर पालिका, 18नगर परिषद और 3 नगर निगम शामिल हैं। इन सभी निकायों में 30 लाख से ज्यादा मतदाता हैं। 49 नगर निकायों से 2 हजार से ज्यादा पार्षद पदों के लिए मतगणना 8 बजे से शुरू हो गई है। बता दें कि 26 नवम्बर को निकाय अध्यक्षों का चुनाव होगा और निर्वाचित पार्षद निकाय अध्यक्ष चुनेंगे, वही 27 नवम्बर को उपाध्यक्षो का चुनाव होगा। परिणम घोषित होने के साथ ही कांग्रेस और भाजपा ने अपने विजयी प्रत्याशियों की घेराबंदी भी शुरू कर दी है ताकि निकाय अध्यक्ष के चुनाव तक किसी तरह का दल बदल या क्राॅस वोटिंग की सम्भावना न रहे।

Posted By: Neeraj Vyas

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020