मनीष गोधा जयपुर। कोरोना लाॅकडाउन के चलते ढाई महीने से सूने पडे राजस्थान के एतिहासिक किले, महल, संग्रहालय अब गुलजार होने लगे हैंं। अनलाॅक 1 की घोषणा के बाद सिर्फ दो दिन में राजस्थान के पर्यटन स्थलों पर 1400 से ज्यादा लोग घूमने पहुंच गए हैंं। राजस्थान में पर्यटन उद्योग को पटरी पर लाने के लिए इसे काफी अच्छी शुरूआत माना जा रहा है।

राजस्थान में पर्यटन सबसे बडे उद्योगों में से एक है जो राजधानी जयपुर सहित राजस्थान के आधे से ज्यादा जिलों की अर्थव्यवस्था में अहम योगदान देता है। कोरोना लाॅकडाउन के चलते यहां के सभी एतिहासिक स्मारक, किले, महल और अन्य पर्यटन स्थल बंद पडे थे। यही कारण है कि पर्यटन उद्योग को यहां बहुत बडा नुकसान हुआ है। आमेर महल के हाथी पालकों से लेकर उदयपुर की झीलों में नाव चलाने वाले और हजारों की संख्या में गाइड, हस्तशिल्प का सामान बनाने वाले और होटल, रेस्टोरेंट आदि सभी प्रभावित हुए है।

लेकिन अब अनलाॅक 1 के बाद दो दिन में पर्यटन स्थलों पर दिख रही चहल पहल इस उद्योग से जुडे हजारों लोगों के चेहरों पर मुस्कान लौटती दिख रही है। अनलाॅक एक की घोषणा के बाद राजस्थान के एतिहासिक स्मारक और संग्रहालय सप्ताह में चार दिन मंगलवार, गुरूवार, शनिवार और रविवार को खोले जा रहे है। अभी दो सप्ताह तक यहां कोई शुल्क भी नहीं लिया जा रहा है। मंगलवार और गुरूवार के दो दिनों में इन स्मारकों और संग्रहालयों में 1433 लोग घूमने के लिए पहुंच चुके है। अकेले जयपुर में दो दिन में 693 लोागें ने आमेर किला, जंतर-मंतर, हवामहल, अल्बर्ट हाॅल, नाहरगढ का किला आदि देखा है। वहीं जयपुर से बाहर अजमेर, अलवर, चित्तौडगढ, बीकानेर, पाली, कोटा, झालावाड, बूंदी आदि जिलों की बात करे तो इनके एतिहासिक स्मारकों और पर्यटन स्थलों पर 740 लोग घूमने के लिए पहुंचे है। अहम बात यह है कि यह मंगलवार और गुरूवार दोनों ही कार्यदिवस है और मंगलवार के मुकाबले जयपुर और जयपुर के बाहर सभी स्थलों पर पर्यटकों में बढोतरी हुई है। जयपुर में मंगलवार को 214 लोग इन स्थानों पर आए थे, जबकि गुरूवार को 479 लोग पहुंचे। वहीं जयपुर से बाहर मंगलवार को 310 लोग घूमने पहुंचे तो गुरूवार को यह संख्या 430 तक पहुंच गई। राजस्थान के पुरातत्व विभाग के निदेशक प्रकाश चंद्र शर्मा का कहना है कि राजस्थान के इन ऐतिहासिक पर्यटन स्थलों पर आमतौर पर आने वाले पर्यटकों की संख्या को देखते हुए अभी तक जो लोग पहुंचे है, वो बहुत ज्यादा नहीं है, लेकिन मौजूदा स्थितियों में हम इस आंकडे को भी बहुत अच्छा मान रहे है और हमारी दृष्टि से यह राजस्थान के पर्यटन के लिए बहुत अच्छी और सकारात्मक शुरूआत है। हमें उम्मीद है कि जल्दी ही ये पर्यटन स्थल एक बार फिर अपनी पुरानी रौनक हासिल कर लेंगे।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020