जयपुर। राजस्थान में दो किसानों की दो अलग-अलग कहानियां सामने आई है। एक ने कर्ज से परेशान हो कर आत्महत्या कर ली, वहीं दूसरे ने अपनी बेटी की इच्छा पूरी करने के लिए उसकी विदाई हैलिकाॅप्टर से कराई। ये दोनों एक दूसरे से बहुत ज्यादा दूरी पर नहीं थे। हनुमानगढ़ के किसान ने जान दी और झुंझुनूं के किसान ने बेटी की महंगी इच्छा पूरी की।

राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले में बीती रात 60 साल के किसान जगदीश ने आत्महत्या कर ली। जगदीश जिले के सरदारगढिया गांव का रहने वाला था। परिजनों के अनुसार जगदीश ने दिसम्बर 2014 में एक बैक से 3 लाख 85 हजार का कर्ज लिया था और कर्ज की किश्त ना चुकाने पर अब कर्ज बढ़कर करीब 5 लाख रुपये हो गया था। बताया जा रहा है कि कुछ दिन पहले बैंक मैनेजर किसान के घर आया।

बैंक कर्ज को चुकता ना कर पाने की स्थिति में जमीन कुर्क करने की बात कही थी। इस के बाद से जगदीश परेशान रहने लगा और बीती रात उसने श्रीगंगानगर-बांद्रा ट्रेन के आगे कूदकर अपनी जान दे दी। इस मामले में गोगामेड़ी थाना में मामला दर्ज हुआ है और मामला दर्ज होने के बाद किसान के शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया। फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है।

वहीं राजस्थान के ही झुंझुनूं जिले में एक किसान ने अपनी बेटी को शादी के बाद हेलिकॉप्टर में विदा किया। शादी के करीब एक महीने पहले ही हेलिकॉप्टर की बुकिंग करवा ली गई थी और इसके लिए सभी प्रशासनिक अनुमति ले ली गई थी। झुंझुनूं के अजीतपुरा के रहने वाले किसान महेन्द्र सिंह कुछ वर्ष विदेश रहे थे और बाद में अपने गांव लौट आए थे।

जब वे विदेश मे थे, उनकी बेटी रीना छोटी थी और हवाई जहाज में बैठने की इच्छा रखती थी। महेन्द्र सिंह ने बेटी की इस इच्‍छा को पूरा किया उसकी शादी पर और उसकी विदाई हेलिकॉप्टर से करवाई। विदाई के मौके पर रीना ने इस खास मौके लिए अपने सभी दोस्तों को बुलाया और इस शानदार विदाई का पूरा गांव साक्षी बना। हालांकि मौसम खराब होने के चलते करीब छह घंटे की देरी से विदाई हो पाई। हेलिकॉप्टर से दूल्हा दुल्हन अजीतपुर से उड़े और झुंझुनूं के ही सुलताना पहुंचे जहां रीना का ससुराल है।

Posted By: Navodit Saktawat