मनीष गोधा, जयपुर। Rajasthan Panchayat Election 2020 : सरपंच का चुनाव है तो अब वोटर से राम-राम करने के लिए सुबह सुबह निकलने की जरूरत नहीं रही है। वाॅटसएप पर की गई राम-राम प्रत्यशी का काम कर रही है। सुबह की नमस्कार के बाद मकर सक्रांति की बधाई, चुनाव के वादे और गांव के लिए घोषणापत्र भी।

जी हां...राजस्थान में इस बार के पंच सरपंच चुनाव में सोशल मीडिया का रंग छाया हुआ है। गांव गांव तक स्मार्ट फोन और सस्ते डाटा की पहुंच ने प्रत्याशियों के प्रचार को “स्मार्ट“ बना दिया है। पहले चरण की 2726 पंचायतो के 26 हजार 800 वार्डो में 17 जनवरी को वोट पड़ेंगे। चुनाव प्रचार चरम पर है और प्रदेश के गांवों की चौपालें चुनावी चर्चा में डूबी हुई हैंं। राज्य निर्वाचन आयेाग इस बार ईवीएम के जरिए सरपंच का चुनाव करवा रहा है, इसलिए प्रत्याशियों को प्रचार के लिए करीब आठ दिन का अच्छा समय मिल गया।

सरपंच के चुनाव के लिए चुनाव खर्च सीमा 20 हजार से बढा कर 50 हजार कर दी गई है तो इसका असर भी दिख रहा है और गांवों में पोस्टरों, बैनरों की बहार है, लेकिन प्रत्याशियो के लिए सबसे ज्यादा काम कर रहा है स्मार्ट फोन। अब गांव गांव मे लोगों के पास स्मार्ट फोन है। चाहे हर वोटर के पास नहीं होगा, लेकिन परिवार में एक तो मिल ही जाता है और चूंकि गांव तक यह स्मार्ट क्रांति नई नई पहुंची है, इसलिए जब प्रत्याशी अपनी खूबसूरत फोटो के साथ वोट देने की अपील का संदेश भेजता है तो वोटर को भी काफी अच्छा लगता है।

यही कारण है कि फेसबुक पर सरपंच चुनाव से जुडे हजारों पेज बन गए हैं। जिनसे लोगों को जोडा जा रहा है। उस पर अपने संदेश दिए जा रहे है। इसके अलावा वाॅटसग्रुप तो हैं ही। लिंक्डइन और इंस्टाग्राम अभी गांव तक ज्यादा नहीं पहुंचे हैं तो फेसबुक और वाॅटसएप ही से काम चल रहा है। सरपंच प्रत्याशियों की बकायदा आईटी सैल सक्रिय है, हालांकि इसमें उनके रिश्तेदार ही है, लेकिन कई लोगों ने यह काम बाहर से भी कराया है।

वादोंं की बहार, घोषणापत्र भी इस बार-

सरपंच चुनाव में प्रत्याशी अब तक वोटरों से मिल कर वादे करते रहे हैं। लिखित घोषणापत्र अब तक नजर नहीं आते थे। इनके लिए जरूरी भी नहीं है क्योंकि यह चुनाव राजनीतिक दलों पर सिम्बल पर नहीं होता है, लेकिन इस बार के चुनाव में घोषणापत्र भी दिख रहे है। फेसबुक पेज बना है तो उस पर रोज कुछ न कुछ तो डालना ही है। तो अब इस पर वादे डाले जा रहे है।

अलवर जिले की भूडा पंचायत की प्रत्याशी पूजा बमनावत ने अपने फेसबुक पेज पर गांव में शिक्षा, स्वास्थ्य, सुरक्षा, परिवहन, कृषि आदि से जुड़़े़े करीब बीस वादे गांव वालों से किए हुए हैं और पूरी तरह भ्रष्टाचार मुक्त गांव की सरकार देने का वादा कर रही है। कुछ ऐसा ही खेतडी नगर की ग्राम पंचायत गोठडा की सरपंच उम्मीदवार सरोज देवी ने किया है। इसी तरह ग्राम करांटी की सरपंच उम्मीदवार घीसी देवी ने तो तीन पेज का घोषणापत्र जारी किया है, जिसमें गांव वालों से 26 वादे किए गए है।

ग्राम पंचायत जगन्नाथपुरा से सरपंच का चुनाव लड़ रही लालीदेवी कहती हैं कि वे युवाओं को फोकस कर चुनाव लड रही है। गांव में पढ़े-लिखे युवक युवतियां हैवोट डालने के लिए इनमें उत्साह भी रहता है, इसलिए सोशल मीडिया पर ज्यादा से ज्यादा प्रचार कर रही हूं। उनका कहनार है कि इससे प्रचार का खर्च भी बचा है। यह ज्यादा सस्ता तरीका है। हालांकि व्यक्तिगत प्रचार का तो अपना महत्व है ही।

पति या बेटे का चेहरा भी साथ में- सरपंच चुनाव में सरपंच पति या सरपंच बेटे का अलग पद अपने आप बन गया है। महिलाओ का आरक्षण होने के कारण आरक्षित सीट पर मां या पत्नी या बहन को चुनाव लडाना मजबूरी बन गया है, यही कारण है कि सोशल मीडिया पर प्रसारित हो रहे फोटो में प्रत्याशी के चेहरे के साथ सरपंच पति, बेटे या भाई का चेहरा जरूर है। वोट की मुख्य अपील भी उन्हीे की तरफ से है।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020