जोधपुर, 7 सितम्बर। पंचायत चुनाव के परिणामों के तहत जोधपुर में कांग्रेस का पलड़ा भारी रहा और लीला मदेरणा को जिला प्रमुख चुन लिया गया। हालांकि लीला के साथ मुन्नी देवी गोदारा को भी प्रत्याशी माना जा रहा था। उन्होंने नामांकन भरा भी था, और नाम वापसी के तय समय के बाद भी उनके द्वारा विड्रॉल नहीं किए जाने को लेकर एक बार सियासी हलचल भी तेज हुई थी, लेकिन बाद में सर्वसम्मति से लीला मदेरणा को जिला प्रमुख पद पर चुन लिया गया। जब बाड़े बंदी समाप्त हुई, तो कई राज भी उजागर हुए। जोधपुर जिला प्रमुख चुनाव में भी जमकर खींचतान हुई थी। सूत्रों के अनुसार ओसियां विधायक दिव्या मदेरणा ने सचिन खेमे में जाने की धमकी दी थी, जिसके बाद कांग्रेस आलाकमान को दबाव में आकर लीला मदेरणा के नाम पर ही मुहर लगानी पड़ी।

सूत्रों के मुताबिक, उचियारड़ा के वेलकम होटल में कांग्रेस के जिला परिषद् सदस्यों की बाड़े बंदी हुई थी । यहां ट्रायल वोटिंग भी करवाई गई। सभी 21 सदस्यों को लीला के पक्ष में वोट डालने कहा गया। इस पर वहां मौजूद बद्रीराम जाखड़ ने विरोध दर्ज किया। तब सभी ने जाखड़ से कहा कि वह अगर साथ नहीं देते है तो अकेले रहेंगे। इस पर जाखड़ नाराज होकर गुस्से में निकले और तबीयत बिगड़ने से अस्पताल में भर्ती हुए। फिर रणनीति तय कर बाकी प्रत्याशियों को मनाने की कोशिश हुई। भीतर मौजूद सूत्रों से यह भी जानकारी मिली कि ओसिया से विधायक दिव्या मदेरणा ने अपनी माता लीला को जिला प्रमुख बनाने के लिए दबाव बनाया था। जिसके बाद आलाकमान द्वारा लीला मदेरणा के नाम पर सहमति बनाई थी।

उप जिला प्रमुख चुनाव में हुई क्रॉस वोटिंग

जोधपुर उप जिला प्रमुख चुनाव में क्रॉस वोटिंग का भी खुलासा हुआ है। जोधपुर में कांग्रेस के विक्रम सिंह विश्नोई 23 मत प्राप्त कर उप जिला प्रमुख बने, जबकि कांग्रेस के कुल वोटों की संख्या 21 थी। ऐसे में भारतीय जनता पार्टी से 2 वोट कांग्रेस के खेमे में पड़े हैं। यह अलग बात है कि जिला प्रमुख के चुनाव में भी क्रॉस वोटिंग का हल्ला हुआ था, जहां भाजपा द्वारा 3 मतों को अपने पक्ष में करवाने की बात सामने आई है। लेकिन यह बात भी स्पष्ट है कि कांग्रेस के द्वारा भी भाजपा के वोट बैंक में सेंधमारी की गई थी, जिस कारण क्रॉस वोटिंग होने के बाद भी स्थिति में कोई बदलाव नहीं आया।

भाजपा के पूर्व विधायक पर हुआ हमला

लूणी के पूर्व विधायक जोगाराम पटेल पर मंगलवार को उनकी गाड़ी पर पथराव कर हमला किया गया । वे धवा पंचायत समिति सदस्यों को मतदान केंद्र ले जा रहे थे। रास्ते मे जाते समय जोगाराम पटेल की गाड़ी पर पथराव किया गया, जिससे जोगाराम पटेल को भी चोटें आई । हालांकि जोगाराम अभी स्वस्थ है । वहीं धवा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर किया जा रहा प्राथमिक उपचार भी किया गया, जिसके बाद उनको एम्स ले जाया गया है। अभी कोई मामला दर्ज नहीं हुआ है। जोगाराम पर हुए हमले के बाद बड़ी संख्या में भाजपा से जुड़े लोग और जोधपुर दक्षिण की भाजपा की महापौर वनीता सेठ एम्स पहुंचे और पूर्व विधायक की कुशल क्षेम जानी।

Posted By: Shailendra Kumar