उदयपुर। बांसवाड़ा जिले के सदर थाना क्षेत्र में गर्भवती से एक ही रात में 11 बार रेप के चर्चित मामले के सभी पांचों आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। सभी को तीन दिन की पुलिस हिरासत में सौंपा गया है। उनसे तलवार एवं अन्य हथियारों की बरामदगी करनी है जिसके बल पर आरोपियों ने एक युवक पर हमला किया और उसकी प्रेमिका का अपहरण करने के बाद उसके साथ दुष्कर्म किया।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि घटना तेरह जुलाई की है। उस रात माला बस्ती गांव का प्रभु लाल अपनी अविवाहित प्रेमिका के साथ बाइक से गांव लौट रहा था। रास्ते में उन्हें तीन युवक मिले जिन्होंने प्रभु को रोका तथा उस पर तलवार से हमला कर दिया। घायल प्रभु के बेहोश होने पर वह उसकी प्रेमिका को उठा ले गए तथा अपने दो अन्य मित्रों के साथ मिलकर पूरी रात कई बार उसके साथ दुष्कर्म किया।

बताया गया कि पीड़िता गर्भवती थी तथा कई बार दुष्कर्म के चलते उसके पेट में पल रहा डेढ; माह का गर्भ नष्ट हो गया। प्रभु को जब होश आया तो उसने समाज के डर से फांसी लगाकर जान दे दी। पुलिस उसकी मोबाइल कॉल डिटेल के आधार अस्पताल में भर्ती उसकी प्रेमिका तक पहुंची तब जाकर वारदात का खुलासा हुआ। इसके बाद पुलिस ने बांसवाड़ा के निचला घंटाला निवासी सुनील चरपोटा, उसके मित्र विकास, नरेश गुर्जर, विजय और जितेंद्र चरपोटा को गिरफ्तार कर लिया।

उनके खिलाफ पुलिस ने दुष्कर्म के साथ अपहरण, जानलेवा हमले तथा आत्महत्या के लिए मजबूर करने का मामला दर्ज किया। पूछताछ में खुलासा हुआ कि आरोपी सुनील पर पुलिस ने पांच हजार रुपए का इनाम रखा हुआ है। उसके खिलाफ दुष्कर्म के अलावा लूट तथा चोरी के मामले विभिन्न थानों में दर्ज हैं। पुलिस पूछताछ में आरोपियों ने कबूल किया है कि प्रभु के बेहोश होने के बाद वह उसकी प्रेमिका को उदपुरा के बस स्टैण्ड के सामने सुनसान जगह ले गए जहां उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया।

पांचों आरोपियों ने सुबह करीब चार बजे तक शराब के नशे में युवती के साथ 11 बार गैंगरेप किया। उसके बाद वह गांव छोडक़र भाग निकले। प्रभु के फांसी लगाने से वह परेशान हुए लेकिन अस्पताल में भर्ती युवती ने जब उसके साथ दुष्कर्म की शिकायत नहीं की तो वह आश्वस्त हो गए थे कि उनके खिलाफ अब मामला दर्ज नहीं होगा।