जयपुर। राजस्थान में विधानसभा चुनाव के बाद से ही अशोग गहलोत और सचिन पायलट के समर्थकों के बीच पदों को लेकर खींचतान रही है। यह खींचतान अब एक बार फिर से सामने आई है जिसमें गहलोत खेमे द्वारा सचिन पायलट को पार्टी अध्यक्ष पद से हटाने की कोशिशें करने का दावा किया जा रहा है। इन खबरों के बाद राज्य के उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने साफ कहा है कि उनका फैसला पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी करेंगी। पौने दो साल पहले जब कांग्रेस सत्ता में आई थी तब से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच खींचतान चल रही है, लेकिन पिछले कुछ समय से यह और तेज हो गई ।

सूत्रों के अनुसार, गहलोत खेमा पार्टी में "एक व्यक्ति, एक पद" सिद्धांत लागू करने की बात कर रहा है। गहलोत खेमा इसी मुद्दे को लेकर सोनिया गांधी तक अपनी बात पहुंचाने का प्रयास कर रहा है । गहलोत समर्थकों का तर्क है कि सचिन पायलट पिछले साढ़े छह साल से प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष एवं पौने दो साल से उपमुख्यमंत्री पद पर कार्यरत है । उन्हें एक पद छोड़ना चाहिए।

इसी बीच मंगलवार को मीडिया से बात करते हुए पायलट ने कहा कि,मैं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद पर रहूं या नहीं, ये फैसला पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी करेंगी । पायलट ने कहा कि राजनीति में कब क्या होगा यह कहा नहीं जा सकता, जिसका जहां उपयोग लेना है,चाहे सरकार हो या संगठन, उसका फैसला कांग्रेस हाईकमान करता है। उन्होंने कहा कि राज्यसभा चुनाव में हमारे दोनों उम्मीदवारों को पूरे वोट मिले हैं। संख्याबल जितना था, उसी के आधार पर वोट मिले हैं। इसका मतलब यह है कि उस दौरान जो भी कहा गया,संशय किया गया, उसका कोई आधार नहीं है।

उन्होंने कहा कि कार्यकर्ताओं के खून पसीने से हम सरकार में आए हैं । सीएम गहलोत द्वारा राजनीतिक नियुक्तयों को लेकर की जा रही कसरत के बारे में पूछे गए सवाल के जवाब में पायलट ने कहा कि को-आर्डिंनेशन कमेटी के माध्यम से राजनीतिक नियुक्तियां होंगी । मंत्रिमंडल में फेरबदल सहित सभी निर्णय सत्ता व संगठन मिलकर करेंगे । उन्होंने कहा कि जिन कार्यकर्ताओं का विपक्ष में रहते हुए खूब उपयोग किया गया, उनके मान-सम्मान का बीड़ा मैंने उठाया है।

सचिन ने ट्विटर हैंडल की प्रोफाइल फोटो बदलकर दिया संदेश

गहलोत खेमे द्वारा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद पर बदलाव को लेकर चलाई जा रही मुहिम के बीच सचिन पायलट ने अपने ट्विटर प्रोफाइल पर लगा फोटो बदल दिया। अब तक पायलट की सामान्य फोटो लगी हुई थी, लेकिन अब उन्होंने नई प्रोफाइल फोटो लगाई है, जिसमें वे साफा बांधे एवं गाड़ी की स्टीयरिंग थामे और लोगों से हाथ मिलाते नजर आ रहे हैं। इसे पायलट की ओर से पार्टी और मुख्यमंत्री को यह साफ संदेश माना जा रहा है कि वे ड्राइविंग सीट पर ही रहना चाहते हैं। पायलट समर्थक इस बात की लॉबिंग में जुटे हैं कि प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी उनके पास ही रहे । इसको लेकर पायलट समर्थक मंत्री,विधायक एवं पार्टी नेता लगातार रणनीति बना रहे हैं । पायलट राज्य के इतिहास में अब तक के सबसे लंबे कार्यकाल वाले कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष बन चुके हैं । वे साढ़े छह साल से राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के रूप में काम कर रहे हैं ।

Posted By: Ajay Kumar Barve

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना