Tiddi Dal Attack : पिछले वर्ष तक राजस्थान के सरहदी जिलों तक ही सीमित रहा इस बार जयपुर तक पहुंच गया है। सोमवार सुबह टिड्डी का एक झुंड जयपुर के परकोटा क्षेत्र में बडी चैपड और आस पास के इलाकों जैसे मुरलीपुरा, जवाहर नगर और कई क्षेत्रों में देखा गया। टिड्डी दल के इस हमले को देख कर लोग अपने घरों में लगे पेड पौधों को बचाने की जुगत में लग गए। जयपुर शहर में आने से दो दिन पहले तक यह टिड्डी दल जयपुर के ग्रामीण क्षेत्र में कहर बरपा चुका है।

राजस्थान में पिछले वर्ष टिड्डी दल ने नवम्बर में हमला किया था, लेकिन जैसलमेर, बाडमेर, जोधपुर जैसे सरहदी जिलों तक ही सीमित था, लेकिन इस बार टिड्डी दल सरहदी जिलों से आगे बढ कर नागौर, अजमेर, भीलवाडा होता हुआ जयपुर तक आ पहुंचा है। जयपुर के आसपास के इलाकों में पिछले तीन चार दिन से टिड्डी दल देखा जा रहा है जो सोमवार सुबह जयपुर शहर में पहुंचा।

जयपुर के कफर्यूग्रस्त इलाके के जौहरी बाजार, बड़ी चौपड़ के अलावा बाहरी इलाकों में मुरलीपुरा, विद्याधर नगर और जवाहर नगर तक में हजारों की संख्या में टिड्डी दल नजर आया। गौरतलब है कि इस बार संयुक्त राष्ट्र संघ ने भारत में पिछली बार के मुकाबले टिड्डी दल के दो से ढाई गुना ज्यादा हमले की आशंका प्रकट की है और यह स्थिति नजर भी आ रही है।

हालांंकि सरकार इन पर नियंत्रण के दावे कर रही है, लेकिन इसके बाद भी टिड्डी दल पाकिस्तानी सीमा से जयपुर तक आ पहुंचा है। अधिकारियों का कहना है कि हवा के रूख के कारण इस बार टिड्डी दल इतना अंदर तक आ गया है। इस पर नियंत्रण के प्रयास किए जा रहे हैंं। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी अधिकारियों को इस पर नियंत्रण के लिए कार्रवाई करने को कहा है, वहीं इसे लेकर प्रधानमंत्री को पत्र भी लिखा है।

उत्‍तर प्रदेश के इतने जिलों को किया गया हाई अलर्ट

उत्तर प्रदेश में टिड्डी दल का बड़ा हमला भी शुरू हो गया है। यहां जालौन, ललितपुर, हमीरपुर, इटावा व कानपुर देहात जैसे जिलों में हाईअलर्ट घोषित कर दिया है। टिड्डी दल के खतरे को देखते हुए सहारनपुर, शामली, मेरठ, मुजफ्फरनगर व बागपत आदि जिलों में भी सतर्कता बढ़ा दी गयी है। कृषि मंत्री सूर्यप्रताप शाही ने शनिवार को टिड्डियों के हमले से किसानों की फसलों को सुरक्षित करने के लिए संबंधित जिलाधिकारियों को जरूरी उपाय करने के निर्देश दिए। प्रदेश और जिला केंद्रों पर टिड्डी दल नियंत्रण के लिए नोडल अधिकारी, टास्क फोर्स व कंट्रोल रूम को सक्रिय रहने को कहा गया है।

इस नंबर पर दें सूचना

उत्‍तर प्रदेश में राज्य स्तर पर बने कंट्रोल रूम में टेलीफोन संख्या 0522-2205867 पर सूचना दी जा सकती है। प्रदेश स्तर पर उप कृषि निदेशक विजय कुमार सिंह और विनय सिंह को नोडल व सहायक नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है।

टीन के डिब्‍बे व थालियां बजाकर भगाएं

कृषि निदेशक सौराज सिंह ने कहा कि टिड्डी दल को भगाने के लिए कीटनाशक दवाओं का छिड़काव करने के साथ ढोल, नगाड़ों, टीन के डिब्बे और थालियां आदि बजाई जा सकती हैं। किसान टोलियां बनाकर इस समस्या से निपट सकते हैं। वह फायर ब्रिगेड की भी मदद ले सकते हैं।

Posted By: Navodit Saktawat