जयपुर। राजस्थान के अलवर स्थित सरिस्का टाइगर रिजर्व में शिकारी एक बार फिर सक्रिय हो गए है। सरिस्का की बाघिन एसटी-5 के शिकार का खुलासा हुआ है। सरिस्का से पकड़े गए एक शिकारी सैफुद्दीन ने कोर्ट में खुद इसका खुलासा किया है। उसने अपने चार साथियों के साथ में इसी साल 25 फरवरी को सरिस्का की सालोका चौकी इलाके में बंदूक से बाघिन का शिकार किए जाने की बात कबूल की है।

शिकारी सैफुद्दीन ने बाघिन की खाल को सवा लाख रुपए में दिल्ली में और मांस को गुरुग्राम में बेचना भी कबूला है।

वन विभाग ने शिकारी को एसीजेएम प्रथम के समक्ष पेश कर पूछताछ के लिए सोमवार तक का रिमांड लिया है। अभी तक हुई पूछताछ में शिकारी ने यह भी स्वीकार किया है कि सरिस्का क्षेत्र में उसने सांभर और नीलगाय के शिकार भी किए हैं।

शिकारी से पूछताछ में और भी कई खुलासे हो सकते हैं। वन विभाग के अधिकारी शिकारी के चारों साथियों की गिरफ्तारी के प्रयास में भी जुटे हैं।

इस साल मार्च के बाद से बाघिन के गायब होने के कारण सरिस्का में लंबे अरसे तक वन विभाग ने बाघिन की खोजबीन की।

कर्मचारियों की फौज ने सैकड़ों कैमरे लगाकर के लाखों की तादाद में फोटोग्राफ लिए, लेकिन उसके बावजूद भी सरिस्का में बाघिन एटी -5 का कोई नामोनिशान वन विभाग को नहीं मिला था।

2004 में शिकार के कारण ही सरिस्का पूरी तरह से बाघ विहीन हो चुका था। बाद में यहां रणथम्भौर से बाघ लाकर बसाए गए थे। अब फिर से सरिस्का पर शिकार का संकट गहराने लगा है।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020