जयपुर (ब्यूरो)। राजस्थान में बीकानेर जिले के नोखा तहसील के सारूंडा गांव में स्कूल से घर लौट रही 10 साल की मूक बच्ची के साथ दो युवकों ने दरिंदगी की। इन युवकों द्वारा बोलने में असक्षम इस बच्ची के साथ दुष्कर्म किया। ये युवक बच्ची को खेत में बनी झोपड़ी में ले गए। बच्ची की मां उसे तलाश करते हुए मौके पर पहुंची तो वह दर्द से तड़प रही थी।

सारूंडा गांव निवासी तीसरी कक्षा में पढ़ने वाली मूक बच्ची गुरुवार को सुबह अपने तीन छोटे भाई-बहनों के साथ करीब तीन किलोमीटर दूर सरकारी स्कूल में पढ़ने गई थी। एक बजे छुट्टी होने पर गांव के ही चुन्नीलाल मेघवाल और मनोज कुमर मेघवाल ने बच्ची को रास्ते में रोका और एक खेत में बने झोपड़े में ले गए। इस दौरान चुन्नीलाल उसके तीन छोटे भाई-बहनों को साइकिल पर बैठाकर घर छोड़ आया और वापस झोपड़े में पहुंच गया जहां बच्ची को रोक रखा था। आरोपियों ने बच्ची के साथ दुष्कर्म किया।

बच्ची के घर नहीं पहुंचने पर उसे ढूढ़ते हुए मां घटनास्थल पर पहुंची तो दुष्कर्म कर रहे दोनों आरोपी उसे देखकर साइकिल पर फरार हो गए। मां उसे घर ले गई और शुक्रवार को पांचू थाने में रिपोर्ट लिखाई। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर दोनों आरोपियों को हिरासत में ले लिया है। मूक होने के कारण उसके बयान दर्ज करने के लिए एक्सपर्ट की मदद ली जाएगी।

Posted By: Sonal Sharma