जयपुर (ब्यूरो)। राजस्थान के उदयपुर शहर में बुधवार को सीवरेज लाइन का काम करते हुए चार श्रमिकों की मौत हो गई। स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत चल रहे इस काम के दौरान हुए हादसे के पीछे श्रमिकों का दम घुटने की बात सामने आ रही है। हालांकि जहां सीवर लाइन का काम चल रहा था, उसके नीचे से 11 केवी की बिजली की लाइन भी जा रही थी। ऐसे में करंट की आशंका भी बताई जा रही है।

ऐसे हुआ हादसा

उदयपुर में हिरणमगरी के सेक्टर छह मे गीताजंली अस्पताल की ओर जाने वाले मार्ग पर एक स्कूल के बाहर यह हादसा हुआ। यहां पहले दो श्रमिक सीवरेज लाइन के काम के लिए नीचे उतरे थे। जब ये वापस नहीं आए औैर आवाज देने पर भी जवाब नहीं दिया तो दो और श्रमिक नीचे उतरे, लेकिन ये भी वापस नहीं आए। इसके बाद वहां मौजूद एक अन्य कर्मचारी और स्थानीय लोगों ने पुलिस को सूचना दी। करीब आधे घंटे बाद पुलिस बचाव दल को लेकर मौके पर पहुंची।

करंट की आशंका को देखते हुए पहले बिजली बंद कराई गई और बाद में बचाव दल ने चारों श्रमिकों को बाहर निकाला, लेकिन तब तक इनकी मौत हो चुकी थी। मौत के वास्तविक कारण का पता पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद चलेगा। मेडिकल बोर्ड से चार शवों का पोस्टमार्टम कराया जाएगा। मृतक में दो पान सिंह पंवार और प्रहलाद मीणा चित्तौड़गढ़ के रहने वाले है, जबकि कैलाश मीणा बांसवाड़ा तथा धर्मचंद मीणा उदयपुर के रहने वाले है।

मुआवजा दिलाने की मांग

इस घटना के बाद स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में काम कर रहे श्रमिकों ने शहर भर में जारी काम रोक दिया। उनकी मांग है कि मृतक श्रमिकों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपए का मुआवजा दिया जाए। श्रमिकों का कहना है कि मजदूरों को सुरक्षा के कोई उपकरण नहीं दिए हुए हैं। प्रोजेक्ट कंपनी ने ना तो उन्हें हेलमेट दिए हैं और ना ही उनके पास प्लास्टिक के जूते हैं। उदयपुर नगर निगम के महापौर चंद्रसिंह कोठारी ने घटना को दुखद बताते हुए उचित मुआवजा दिलाने की बात कही है।

जांच के लिए कमेटी का गठन

इस बीच प्रशासन ने इस घटना की जांच के लिए कमेटी का गठन किया हैं। उदयपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी कमर चौधरी ने बताया कि दुर्घटना की विस्तृत जांच के लिए जिला कलेक्टर श्रीमती आनंदी द्वारा ने कमेटी का गठन किया है। कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

उन्होंने बताया कि स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत उदयपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड द्वारा नगर निगम के वार्ड संख्या 26, 27, 28, 29 व 30 में सीवरेज नेटवर्क बिछाने का कार्य डी.आर.अग्रवाल अहमदाबाद के माध्यम से करवाया जा रहा है। कार्य में लापरवाही बरतने वाले ठेकेदार को नोटिस जारी कर दिया गया है। मृतक आश्रितों के परिवार वालों से सम्पर्क कर उन्हे नियमानुसार क्षतिपूर्ति राशि दिलवाई जाएगी।