जयपुर। राजस्थान में पंचायतों के पंच सरपंच चुनने के लिए दूसरे चरण का मतदान बुधवार को पूरा हो गया। इस चरण में भी सर्दी के बावजूद मतदाताओं मे काफी उत्साह देखा गया और मतदान केन्द्रों के बाहर लम्बी कतारें नजर आई। मतदान के तुरंत बाद मतगणना हुई, जिसके नतीजे देर रात तक आते रहे।

राजस्थान में पंचायत चुनाव के तहत पंच सरपंच चुनने के लिए बुधवार को 2312 पंचायतों में वोट डाले गए। सुबह के समय सर्दी के कारण जहां मतदान प्रतिशत बहुत ज्यादा नहीं था और सुबह 10 बजे तक सिर्फ 11 प्रतिशत ही वोट पडे थे, वहीं दोपहर 12 बजे तक 35 प्रतिशत और अपरान्ह तीन बजे 55 प्रतिशत से ज्यादा मतदान हो चुका था। पहले चरण में भी मतदान की गति बढ़ी थी और 81 प्रतिशत से ज्यादा वोट पड़े थे। इस बार भी कुछ ऐसी ही उम्मीद की जा रही है। दूसरे चरण में सरपंच पद के लिए 15334 प्रत्याशी और पंच के लिए 43 हजार प्रत्याशी चुनाव मैदान में थे। वहीं 21 सरपंच और 7,466 पंच निर्विरोध चुने जा चुके हैं।

मतदान के दौरान कई तरह की गडबडियां भी सामने आई। श्रीगंगानगर की ग्राम पंचायत लालगढ़ में पंच पद के लिए बैलेट पेपर में पंच पद के प्रत्याशी का नाम नहीं छपा। इसके कारण चुनाव एक बार रुकवाया गया। झालावाड़ के पास अकलेरा के अमृतखेड़ी में ईवीएम में आई गड़बड़ी के कारण कुछ देर के लिए मतदान रोकना पड़ा। बाद में ईवीएम ठीक करने के बाद मतदान शुरू हुआ। इसी तरह सीकर के श्रीमाधोपुर ग्राम पंचायत के लाखनी मतदान केंद्र पर बुजुर्ग प्रत्याशी का वोट सहयोगी द्वारा डालने पर विवाद हो गया। इस दौरान दो पक्षों में धक्का-मुक्की हो गई।

प्रत्याशी की दिल का दौरा पड़ने से मौत- इस बीच बूंदी जिले के दबलाना ग्रामपंचायत में एक पंच प्रत्याशी की मतदान से पहले दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई। हालांकि राज्य निर्वाचन आयोग ने वहां दो से अधिक प्रत्याशी होने कारण मतदान निरस्त नहीं किया है। मृतक प्रत्याशी वार्ड नंबर 8 पंच पद के प्रत्याशी शिवराज सिंह हाड़ा थे।

सरपंच प्रत्‍याशी के समर्थक के घर पर हमला- इस बीच चुनाव से पहले अजमेर में एक सरपंच प्रत्याशी के समर्थकों के घर पर कुछ लोगों ने हमला बोल दिया। गाड़ी में भरकर आए लोगों ने ईंट, पत्थर और सरियों से वार कर दिया। इस दौरान गाड़ियों में तोड़फोड़ भी की गई। इस हमले में तीन लोग घायल हो गए।घटना बिजयनगर थाना क्षेत्र के बरल द्वितीय ग्राम पंचायत में हुई है। साथ ही सरपंच प्रत्याशी लक्ष्मी देवी (जैन) तिकलिया के घर पर भी गाली-गलौज की गई है।

Posted By: Navodit Saktawat

fantasy cricket
fantasy cricket