नई दिल्ली/जयपुर। LIVE Rajasthan Political Crisis: राजस्थान का सियासी संकट फिलहाल के लिए थम गया है। राजस्थान कांग्रेस विधायक दल की बैठक में अशोक गहलोत सरकार का सर्वसम्मति से समर्थन किया गया। साथ ही भाजपा के खिलाफ प्रस्ताव पारित किया गया कि भाजपा द्वारा लोकतंत्र का यह चीरहरण राजस्थान के 8 करोड़ लोगों का अपमान है, वे इसे स्वीकार नहीं करेंगे। इधर पूरे घटनाक्रम के मद्देनजर पिछले 2 दिनों में कांग्रेस आलाकमान ने नाराज उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट से कई बार बात की। बताया जा रहा है कि सचिन पायलट की नाराजगी दूर करने के लिए जल्द ही सरकार में फेरबदल होंगे।

बता दें कि सीएम आवास पर कांग्रेस विधायक दल की बैठक खत्म हो गई। इसके बाद बसों में सवार हो कर कांग्रेस विधायक सीएम आवास से बाहर निकले। विधायक दल की बैठक में विधायकों ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और नेता राहुल गांधी के प्रति अपना विश्वास व्यक्त किया। सभी ने सर्वानुमति से अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली सरकार का समर्थन किया। अशोक गहलोत के मीडिया सलाहकार ने जानकारी दी कि बैठक में 107 विधायक मौजूद रहे।

जानकारी के अनुसार बैठक तय समय से लगभग 3 घंटे देरी से शुरू हुई और बैठक शुरू होने से एक घंटे पहले दोपहर करीब साढ़े 12 बजे तक लगभग 100 विधायक मुख्यमंत्री के आवास पर पहुंचे थे। इस बैठक में पायलट के करीबी माने जाने वाले कुछ विधायक नहीं पहुंचे थे। समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार ये विधायक जीआर खटाना, हरीश मीणा, रमेश मीणा, विश्वेंद्र सिंह, वेद प्रकाश, मुकेश भाकर और रामनिवास गवरिया हैं। पार्टी पहले ही दावा कर चुकी है कि उसके पास 109 विधायकों का समर्थन है। पार्टी ने उप मुख्यमंत्री और पार्टी की राज्य इकाई के अध्यक्ष सचिन पायलट के दावे को खारिज कर दिया है कि सरकार के पास बहुमत नहीं है। बता दें कि पार्टी ने इस बैठक को लेकर व्हिप जारी किया था।

राजस्थान कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडे ने जानकारी दी थी कि कांग्रेस विधायक दल की बैठक में बगैर किसी सूचना के न शामिल होने वाले विधायकों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।

सचिन पायलट से कई बार हुई बात

इससे पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस में कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा - मैं सभी कांग्रेस विधायकों से अपील करता हूं कि लोगों ने राज्य में एक स्थिर सरकार का नेतृत्व करने के लिए कांग्रेस को वोट दिया है, इसलिए सभी विधायकों को आज कांग्रेस विधायक दल की बैठक में शामिल होना चाहिए और राज्य में हमारी सरकार को मजबूत बनाना चाहिए। पिछले 48 घंटों में कांग्रेस नेतृत्व ने वर्तमान राजनीतिक स्थिति (राजस्थान में) के बारे में सचिन पायलट से कई बार बात की है। राजस्थान में कांग्रेस सरकार स्थिर है और हम पूरा कार्यकाल पूरा करेंगे। उन्होंने ये भी कहा - किसी भी नेता को कोई दिक्कत है वे आगे आएं और पार्टी फोरम पर इसका उल्लेख करें। हम इसे एक साथ हल करने और राज्य में अपने सरकार को बरकरार रखने के लिए काम करेंगे। राज्य में भाजपा की कोई भी साजिश हमारी सरकार को गिराने में सफल नहीं होगी।

पायलट पार्टी से ऊपर नहीं- अविनाश पांडे

इससे पहले राजस्थान कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडे ने कहा कि उन्होंने पायलट से बात करने की कोशिश की और मैसेज भी भेजा है, लेकिन उन्होंने (पायलट) जवाब नहीं दिया है। वे पार्टी से ऊपर नहीं है। पार्टी उनकी बात सुनने के लिए तैयार है, लेकिन किसी भी तरह की अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

पुनिया ने बयान पर दी सफाई

सुबह के घटनाक्रम के दौरान उस समय सभी हैरान रह गए जब कांग्रेस नेता पीएल पुनिया ने सचिन पायलट के भाजपा में शामिल होने की बात कही। बाद में उन्होंने अपने बायन को लेकर सफाई दी। पहले उन्होंने कहा था कि सचिन पायलट अब भाजपा में शामिल हो गए हैं। कांग्रेस पार्टी के प्रति भाजपा का रवैया सभी जानते हैं। पार्टी को भाजपा से प्रमाणपत्र की आवश्यकता नहीं है। कांग्रेस पार्टी में सभी नेताओं और कार्यकर्ताओं का सम्मान किया जाता है। बाद में उन्होंने अपने इस बायन पर सफाई देते हुए कहा - सवाल सिंधिया जी के लिए पूछा गया था। जवाब भी मैंने सिंधिया को लेकर दिया था। गलती से मेरी जुबान फिसल गई और उनकी जगह सचिन पायलट का नाम ले लिया।

Posted By: Rahul Vavikar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan