इंदौर। रमजान में अमीर हो या गरीब, बड़ा हो या छोटा, सब एक जैसा खाना खाएंगे। धर्मगुरु डॉ. सैयदना आलीकदर मुफद्दल मौला (तउश) ने हिदायत दी है कि इंदौर सहित देश-दुनिया में जहां भी बोहरा समाजजन निवास करते हैं वहां तंजीम कमेटियां रोजा इफ्तार की व्यवस्था मस्जिद और मरकजों में करें। खाने का मीनू भी एक जैसा होगा। इसे संभवत: अगले सप्ताह अंतिम रूप दे दिया जाएगा। दाऊदी बोहरा समाज का रमजान 5 जून से शुरू होगा।

समाजजन 30 रोजे रखेंगे। 4 जून को पहली मुबारक रात होगी। पूरे महीने कुरान की तिलावत और इबादत होगी। मस्जिदों और मरकजों की तंजीम कमेटियां रोजा इफ्तार की व्यवस्था करेंगी। प्रवक्ता बुरहानुद्दीन शकरूवाला ने बताया कि रमजान में 17वीं, 19वीं और 21वीं रात खास रहेगी।

इस दौरान मगरिब और ईशा के बाद वश्शेक की विशेष नमाज अदा की जाएगी। 19 तारीख को मौला अली मुश्किल कुशा की शहादत पर मस्जिदों व मरकजों में वाअज होगी। 23वीं रात शबे कद्र के मौके पर रातभर इबादत की जाएगा। 30वां और आखिरी रोजा 4 जुलाई को होगा। मजहर हुसैन सेठजीवाला ने बताया कि रमजान के आखिरी जुमे 1 जुलाई पर विशेष इबादत की जाएगी।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket